scriptNumber of interracial marriages doubled in two years | कलेक्टोरेट में गूंज रही शहनाई, अब जाति-पात भूल कपल कर रहे इंटर कास्ट मैरिज | Patrika News

कलेक्टोरेट में गूंज रही शहनाई, अब जाति-पात भूल कपल कर रहे इंटर कास्ट मैरिज

- दो साल में दोगुनी हुई अंतरजातीय विवाह की संख्या
- विशेष हिंदू विवाह अधिनियम में चार माह में 149 जोड़ों ने कराया रजिस्ट्रेशन

इंदौर

Published: April 19, 2022 01:14:38 pm

इंदौर। सरकार भले की अगड़ों पिछडों की राजनीति करती रहे, लेकिन इससे दूर समाज में दोनों के दिल खुब मिल रहे है। कलेक्टोरेट में इन दिनों जातिभेद भूलकर अंतरजातीय विवाह की शहनाईयां खूब गूंज रही है। विवाह पंजीयन विभाग में हिंदू विवाह अधिनियम के तहत पंजीयनों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। वर्ष 2021 में 170 शादियां हुई तो 2022 में जनवरी से एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। इस अवधि 45 सामान्य शादियां हुई और 36 जोड़ों ने विवाह पंजीयन करवाया। रजिस्ट्रेशन की अप्रैल तक 149 जोड़े हिंदू मैरिज संख्या और बढ़ेगी।

couple_2018050115005942.jpg
interracial marriages

फूलों की खुशबू से महकता परिसर

कलेक्टोरेट में अपर कलेक्टर कोर्ट में शादियां भी होती हैं। परिसर में रोजाना फूलों की खुशबू और तैयार दुल्हा-दुल्हन के परिजन की आवाजाही रहती है।

विदेशी विवाह में आई कमी

विदेशी लड़कियों के साथ भारतीय लड़कों के विवाह का पंजीयन भी यहां होता है। कोरोना के कारण इसमें कमी आई है। बीते चार महीने में चार-पांच ऐसे विवाह हुए हैं।

तीन नियमों के तहत होती हैं शादियां

पहला: युवा जोड़े कोर्ट मैरिज करते हैं। इसमें अपर कलेक्टर के समक्ष वरमाला डालकर विवाह सूत्र में बंधते हैं।

दूसरा: इसमें अंतरजातीय विवाह किए जाते हैं। हिंदू विवाह अधिनियम के तहत होने वाली इस शादी के लिए युवक या युवती में से एक का अनुसूचित जाति से होना अनिवार्य है। वर या वधू में से एक पक्ष सामान्य या पिछड़ा वर्ग से हो सकता है। इनकी संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है। अफसर इसकी वजह अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना को तो मानते हैं। साथ ही युवाओं की सोच में आया बदलाव भी बड़ा कारण है। इनके दस्तावेजों की छानबीन से पता चलता है कि अधिकांश जोड़े उच्च शिक्षित होते हैं। इस विवाह के लिए आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा 25 लाख रुपए दिए जाते हैं। इसके लिए विवाह होने पर भी एक साल में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होता है।

तीसरा: विशेष विवाह अधिनियम के तहत पंजीयन कराया जाता है। 2008 के पहले जिन लोगों के विवाह हुए हैं, उनके विदेश जाने या अन्य कानूनी कार्य के लिए विवाह का पंजीयन अनिवार्य होता है। इनमें युवा और मी बुजुर्ग दोनों तरह के लोग पहुंच रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.