भय्यू महाराज सुसाइड : कभी खाते में रहते थे करोड़ों, अब बचे हैं सिर्फ इतने रुपए

भय्यू महाराज की आत्महत्या का मामला पूर्व ड्राइवर के बयान के बाद फिर चर्चा में है।

By: हुसैन अली

Published: 18 Dec 2018, 12:02 PM IST

इंदौर. भय्यू महाराज की आत्महत्या का मामला पूर्व ड्राइवर के बयान के बाद फिर चर्चा में है। कहा जा रहा है कि उनके ट्रस्ट सदगुरु धार्मिक व पारमार्थिक ट्रस्ट की संपत्ति हड़पने की साजिश में कई लोग सक्रिय हैं। हालांंकि पदाधिकारियों का कहना है कि इंदौर में ट्रस्ट के पास संपत्ति के नाम पर सिर्फ एक फ्लैट व कुछ पुरानी गाडिय़ां हैं। खाते में पहले जहां एक करोड़ तक जमा होते थे, वहीं अब 8 से 10 लाख रुपए शेष है।

सुखलिया स्थित ट्रस्ट के आश्रम में पहले दत्त जयंती पर कई दिवसीय आयोजन होते थे, वहीं इस बार अभी तक कोई रुपरेखा नहीं बन पाई है। वकील को धमकाने के मामले में पूर्व ड्राइवर कैलाश पाटिल को पकड़ा तो उसने भय्यू महाराज के नजदीकी रहे विनायक दुधाले पर करीब 8 करोड़ व एक अन्य सेवादार पर 2 करोड़ रुपए के गबन का आरोप लगाया। कई लोगों पर जमीन हड़पने व यहां काम कर चुकी युवती द्वारा ब्लैकमेल करने की बात भी कहीं है। ट्रस्ट पदाधिकारियों के मुताबिक 4 साल पहले तो किसी को वेतन भी नहीं दिया जाता था, बाद में महाराज ने वेतन देना शुरू किया, हर माह करीब ढाई-तीन लाख रुपए वेतन दिया जाता है।

जमीनें काफी है लेकिन अधिकतर बंजर

ट्रस्ट के पास इंदौर में भले ही संपत्ति नहीं है, लेकिन प्रदेश के दूसरे हिस्से व महाराष्ट्र में काफी जमीन है, जो अधिकतर दान की है। जमीन सुदूर इलाकों में है और अधितकर गैर उपजाऊ बंजर है। इनसे किसी तरह की आय नहीं होती है। पदाधिकारियों का कहना है कि भय्यू महाराज की मौत के मामले में पुलिस की जांच पूरी होने के बाद सारी जानकारी सार्वजनिक की जाएगी, ताकि संपत्ति को लेकर कोई शक न रहे। किसी भी संपत्ति पर कब्जे आदि की शिकायत नहींं है।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned