मतदाता जागरूकता अभियान की खुली पोल, चुनाव ड्यूटी में जुटे कर्मचारियों की ही रुचि नहीं

60 फीसदी कर्मचारियों ने लिए ईडीसी और डाक मतपत्र

By: रीना शर्मा

Published: 15 May 2019, 12:54 PM IST

इंदौर. जिले में मतदान जागरूकता अभियान चला रहा प्रशासन अपने कर्मचारियों को जागरूक करने में पीछे रह गया। चुनाव ड्यूटी में लगे 60 प्रतिशत अमले को ही चुनाव ड्यूटी प्रमाण पत्र और डाक मतपत्र जारी किए जा सके हैं। प्रशासन द्वारा चुनाव कार्य के लिए तैनात २४ हजार प्रशासनिक और सुरक्षाकर्मियों में 14 हजार कर्मचारी ही मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे।

स्वच्छता में नंबर वन इंदौर को वोटिंग में भी नंबर वन बनाने के लिए प्रशासन जागरूकता अभियान चला रहा है। इस क्रम में चुनाव ड्यूटी में तैनात अमले के लिए प्रशासन ने अलग व्यवस्था करते हुए डाक मत पत्र और चुनाव डयूटी प्रमाण पत्र जारी करने की व्यवस्था प्रशिक्षण स्थल पर ही की, जिससे सामग्री वितरण के समय कर्मचारियों को अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए प्रमाण पत्र लेने के लिए भटकना नहीं पड़े। बावजूद इसके कर्मचारियों ने रुचि नहीं ली। प्रशासन ने मंगलवार को एक और मौका दिया, बावजूद इसके संख्या 60 प्रतिशत ही पहुंच सकी। इसमें से वोट कितने डलेंगे, यह बाद में पता चल सकेगा। जिले में 2881 मतदान केंद्र है। इन केंद्रों पर 11,524 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। रिजर्व दल के रूप में 1168 कर्मचारी हैं। 13261 अधिकारी एवं कर्मचारी चुनाव करवाएंगे। इसके अलावा 3 हजार बीएलओ, मतदान सामग्री वितरण, परिवहन व अन्य व्यवस्थाओं में 2 हजार कर्मचारी और 6 हजार सुरक्षा कर्मचारी को भी शामिल कर लें तो संख्या 24 हजार के आसपास हो जाती हैं। ईडीसी और डाकमत पत्र 14 हजार जारी हुए हैं। प्रशासनिक अफसरों का कहना है, बीएलओ को प्रमाण पत्र जारी नहीं किए गए हैं, लेकिन अनेक बीएलओ अपने बूथ से अलग डयूटी पर होने से मत डालने में मुश्किल आएगी।

साफ्टवेयर ने बढ़ाई बीएलओ की परेशानी

मतदाताओं की सुविधा के लिए आयोग बीएलओ के माध्यम से मतदाता पर्ची वितरण करा रहा है। पर्ची वितरण के दौरान मतदाताओं के मोबाइल नंबर लेना है, जिसे वोट इंदौर वोट एप पर अपलोड करना है। इससे पर्ची वितरण की ऑनलाइन मॉनिटरिंग हो सकेगी, लेकिन सॉफ्टवेयर व सर्वर की परेशानी से बीएलओ परेशान हो रहे हैं।

सर्विस वोटर 1104

जानकारी के अनुसार जिले में 1104 सर्विस वोटर हैं। इन्हें डाक मत पत्र भी जारी किए जा चुके हैं। वहीं चुनाव अधिकारी को मात्र 82 डाक मतपत्र ही प्राप्त हुए हैं। डाक मतपत्र मतगणना वाले दिन मतगणना शुरू होने एक मिनट पहले तक मान्य किए जाएंगे।

नहीं जारी होंगे ईडीसी

-जिले में चुनाव कार्य में लगे कर्मचारियों को डाक मतपत्र और ईडीसी जारी किए जाने का मंगलवार अंतिम अवसर था। जिन कर्मचारियों ने अईडीसी नहीं लिए होंगे, वे अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाएंगे।

अंशुल खरे, एसडीएम

 

रीना शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned