नारी के मातृत्व भावों को दिखाता है 'ऑथेल्लो द सेकंड'

नारी के मातृत्व भावों को दिखाता है 'ऑथेल्लो द सेकंड'

Hussain Ali | Publish: Aug, 13 2019 04:53:24 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

मराठी नाट्य स्पर्धा के अंतिम दिन वेल एन वेल एजुकेशन सोसायटी ने दी प्रस्तुति

इंदौर. मराठी नाट्य स्र्पधा के अंतिम दिन डीएवीवी ऑडियोरिटम में संस्था वेल एन वेल एजुकेशन सोसायटी द्वारा नाटक 'ऑथेल्लो दि सेकंड' का मंचन किया गया। एलएम बांदेकर द्वारा लिखित और रेखा देशपांडे द्वारा निर्देशित इस नाटक की कहानी सामंती व्यवस्था को दशार्ती है।

must read : भाजपा कार्यकर्ता ने गृहमंत्री अमित शाह को खून से लिखा खत, जानिए क्या है पूरा मामला

करीब सात दशक पुराने कालखंड के इस नाटक में जब हमारा सामांती समाज महिलाओं को नाटक आदि करने की अनुमति नहीं देता था, उसे भलीभांति दिखाया गया है। ऐसे में नाटककार स्त्री पात्रों की भूमिकाएं भी पुरुष कलाकार ही करते थे। जब वरिष्ठ अभिनेता और निर्देशकमहिलाओं को नाटक में लाने का आरंभ कर पुरानी प्रथाओं और मान्यताओं को समाप्त करता है। ऐसा करने पर उसे सामाजिक प्रताडऩा मिलती है, लेकिन वह परवाह नहीं करता। आगे चलकर उसका बेटा विनायक भी ऐसा ही करता है, लेकिन उसके मन में पत्नी मालिनी के प्रति संदेह उत्पन्न हो जाता है।

must read : 25-25 हजार रुपए बांड के रखकर युवाओं को नौकरी पर रखा, 22 लाख ले भागी सॉफ्टवेयर कंपनी

वह अपनी पत्नी मालिनी पर शक करता है कि उसका साथी कलाकार के साथ अवैध संबंध। उस समय वह गर्भवती होती है, लेकिन विनायक उसे बच्चा गिराने को कहता है। सतीत्व को प्रमाणिक करने से अधिक प्यारा मालनी को मातृत्व का भाव लगता है। विनायक का मनोरोग विक्षिप्तता में बदल जाता है और वह पत्नी का त्याग कर देता है। जब अपने बच्चों को जन्म देने की चाह में मालिनी साथी कलाकार के साथ चली जाती है तो उसे कई तरह के सामाजिक उलाहना दिए जाते हैं। इस बीच नटवर्य की बेटी भी नाटक में काम करने लगती है। वह अपने भाई विनायक और मां को यह विश्वास दिलाने में कामयाब होती है कि नाटक में काम करना भी स्त्रियों के लिए सुरक्षित और सम्मानजनक है। अंतत बहन अपने भाई का दांपत्य बचाने में कामयाब हो जाती है। नाटक में स्त्री के मातृत्व भावों को बड़ी गंभीरता से दिखाया गया है।

मुख्य पात्रों विनायक और मालिनी की भूमिका क्रमश: गौरव चैतन्य और दैविका तपस्वी ने निभाई। आई की भूमिका डायरेक्टर रेखा देशपांडे ने बखूबी निभाई। उनका निर्देशन भी उतना ही असरकारी था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned