Lockdown in Indore : स्कूल मैनेंजमेंट से परेशान पालकों की मुख्यमंत्री से गुहार

Lockdown in Indore : इधर अधिकांश निजी स्कूलों ने नया शिक्षण सत्र १ अपै्रल से शुरू हो चुका है। अब स्कूल संचालक द्वारा फीस भरने का दबाव बनाया जा रहा है। अधिकांश पालक इस पसोपेश में है कि जब काम ही नहीं चल रहा है, तो फिर फीस कैसे भर पाएंगे। इसी समस्या के निदान के लिए इंदौर पेरेंट्स एसोसिएशन द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है।

By: Sanjay Rajak

Published: 18 Apr 2020, 12:09 PM IST

इंदौर. पूरे देश में लॉकडाउन का दूसरा चरण शुरू हो चुका है। पिछले 25 दिनों से सभी तरह का काम-काज पूरी तरह से ठप्प है। इधर अधिकांश निजी स्कूलों ने नया शिक्षण सत्र 1 अपै्रल से शुरू हो चुका है। अब स्कूल संचालक द्वारा फीस भरने का दबाव बनाया जा रहा है। अधिकांश पालक इस पसोपेश में है कि जब काम ही नहीं चल रहा है, तो फिर फीस कैसे भर पाएंगे। इसी समस्या के निदान के लिए इंदौर पेरेंट्स एसोसिएशन द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में माध्यम से पालकों ने फीस वसूली को लेकर राहत की मांग की है।

एसोसिएशन के अनुरोध जैन ने बताया कि कोरोना-19 को लेकर सभी शिक्षण संस्थाए मार्च से बंद है। संभवत जून-जुलाई से ही स्कूलों संचालन हो सकेगा। कुछ शिक्षण संस्थाओं द्वारा अपै्रल माह से ही ऑनलाइन नया सत्र शुरू कर दिया गया था। पालकों के सामने समस्या है कि व्यापार- व्यवसाय/ कामकाज पूरी तरह से बंद है। जबकि शिक्षण संस्थाओ कि प्रथम त्रिमाही (मार्च-मई) कि फीस भरने की तारीख भी नजदीक आ रही है। इस हमने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि मार्च-मई की फीस में से सिर्फ ५० फीसदी शिक्षण शुल्क ही वसूल किया जाए। शिक्षण संस्थाएं लॉकडाउन खुलने के 3 महीने बाद तक फीस भरने की सुविधा दे। जिन स्कूलों द्वारा फरवरी माह में ही नए सत्र की फीस ले ली गई है, उसे अगली तिमाही फीस में समायोजित करे। शिक्षण संस्थाओ द्वारा शिक्षकों के तनख्वाह में कटोती नहीं की जाए।

Sanjay Rajak Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned