scriptpatrika ground report of pedmis Jeevdaya Trust's Gaushala | गौमाता की कैसी देखरेख: करोड़ों की जमीन, लाखों का अनुदान, बीमार गोवंश लाने वाले से भी लेते दान | Patrika News

गौमाता की कैसी देखरेख: करोड़ों की जमीन, लाखों का अनुदान, बीमार गोवंश लाने वाले से भी लेते दान

संभागायुक्त और कलेक्टर साहब आप भी जानें: एक महीने पहले नायब तहसीलदार ने निरीक्षण किया, लेकिन उन्हें शव ही नहीं दिखे, अन्य अफसर भी झांकने तक नहीं गए

इंदौर

Published: March 04, 2022 04:27:01 pm

इंदौर.

गोशाला में व्यवस्था के दावों की पोल खुलकर सामने आ गई है। वृद्ध-बीमार गोवंश सौंपने पर दान में राशि भी ली जाती है, लेकिन गायों के शव अन्य जानवरों के लिए खुले में फेंक दिए जाते हैं।
मामले को दबाने की भी हर स्तर पर कोशिश हो रही है। पता चला है कि करीब एक महीने पहले नायब तहसीलदार अर्चना जोशी ने गोशाला का निरीक्षण किया, लेकिन यह घोर अत्याचार उन्हें नहीं दिखा और सब कुछ सही होना मान लिया।
गौमाता की कैसी देखरेख: करोड़ों की जमीन, लाखों का अनुदान, बीमार गोवंश लाने वाले से भी लेते दान
गौमाता की कैसी देखरेख: करोड़ों की जमीन, लाखों का अनुदान, बीमार गोवंश लाने वाले से भी लेते दान
अंधेरगर्दी: रिकॉर्ड में नहीं जमीन, अनुदान की जानकारी

क्षेत्र की तहसीलदार व नायब तहसीलदार को पता ही नहीं है कि गोशाला के पास कितनी जमीन है। तहसीलदार पल्लवी पुराणिक कहती हैं-सुना है कि प्रति गाय 21०० रुपए प्रतिवर्ष अनुदान मिलता है, लेकिन इसे देखना पड़ेगा। ट्रस्ट से जमीन की जानकारी जरूर लेंगे। तहसीलदार ने ट्रस्ट के प्रमुख रामेश्वर असावा को फोन कर बुलाया, लेकिन वे शाम तक नहीं आए थे।
------
४२ शव पर चमड़ी नहीं, १८ कंकाल हाथ लगाने से ही बिखर गए

पशु चिकित्सा विभाग की टीम का कहना था कि 42 शव पर चमड़ी तक नहीं थी। 18 कांकल पुराने थे, जिन्हें हाथ लगाने पर ही हड्डियां बिखर रही थीं। पोस्टमॉर्टम जैसी स्थिति नहीं थी। लोगों ने भूख से मौत होने की आशंका जाहिर की है। लेकिन शव एेसी हालत में थे कि मौत का कारण नहीं बताया जा सकता। गोशाला में डेढ़ सौ टन भूसा था। उधर, वृद्ध पशु लाने वाले की ट्रस्ट रसीद काटकर दान भी लेता था। किसी से डेढ़ तो किसी से दो हजार लिए जाते हैं। मैनेजर अशोक ने माना कि रसीद काटते हैं, लेकिन एक बार। ट्रस्ट का ऑडिट होता है।
--------------
शवों के पास मिले इंश्योरेंस के टैग

- ट्रस्ट में 257 गाय, 143 बछिया, 116 बछड़े, 6 नंदी, 11 बैल हैं।

- शवों के पास इंश्योरेंस के टैग भी मिले हैं। इससे साफ है कि गोवंश का इंश्योरेंस भी होता था।
-----------
ट्रस्ट अध्यक्ष बोले

ट्रस्ट अध्यक्ष रामेश्वर असावा ने कहा, गोशाला में मरणासन्न स्थिति में बुजुर्ग गायों को लाया जाता है। हम देखरेख करते हैं, पूरी टीम लगा रखी है। जो खेती होती है, वह अपर्याप्त है। हरा भूसा भी उगाते हैं। अधिकांश जमीन पथरीली है, ज्यादा इस्तेमाल नहीं होता। सरकार ने 15 महीनों से अनुदान नहीं दिया, पिछले साल 25 लाख का चारा खरीदा। ट्रस्टी खुद पैसा लगाते है। 4 करोड़ में जमीन बेचकर 2 करोड़ की एफडी कराई थी, उसका ब्याज मिलता है। पहले खादी ग्रामोद्योग वाले शव ले जाते थे, अब नहीं ले जाते तो वन विभाग की जमीन पर रखवा देते हैं। यहीं प्रक्रिया चल रही थी, अब अधिकारियों से पूछेंगे कि आगे क्या प्रक्रिया अपनाएं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पहला बयान, केंद्रीय मंत्री भी बोलेज्ञानवापी मामले को लेकर अखिलेश यादव ने हिंदू देवी-देवताओं पर की विवादित टिप्पणीIPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डकर्क सहित इन राशि वालों के लिए धन-कारोबार की दृष्टि से अनुकूल है आज का दिन, पेशेवर यात्राएं होंगी सफलबीपीसीएल का निजीकरण रुका, सरकार नए सिरे से फिर शुरू करेगी प्रक्रिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.