परीक्षा दी तो दिखाए 200 अंक, रिजल्ट में मिले 106

आंगनवाड़ी सुपरवाइजर ऑनलाइन परीक्षा में धांधली की शिकायत

इंदौर. मार्च में प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) की आंगनवाड़ी सुपरवाइजर भर्ती की ऑनलाइन परीक्षा में धांधली की शिकायत हुई है। शनिवार को आए ऑनलाइन परीक्षा रिजल्ट वे अभ्यर्थी भी फेल हो गए, जिनके अंक ऑनलाइन परीक्षा समाप्त करने पर २०० में से २०० अंक दिखाए गए थे। इंदौर के साथ प्रदेश के कई जिलों के अभ्यर्थियों ने मांग की है कि कॉपियों की दोबारा जांच कर रिजल्ट जारी हो, अन्यथा हाई कोर्ट में याचिका दायर करेंगे।
अभ्यर्थी मोना यादव ने बताया, ७०० रुपए का फॉर्म खरीदकर ३१ मार्च को ऑनलाइन परीक्षा दी। परीक्षा खत्म करने पर कम्प्यूटर पर २०० में से २०० नंबर दिखाए गए। खुशी कि टॉप १० में नंबर आएगा, लेकिन २३ सितंबर को रिजल्ट आया तो उसमें मेरिट कटऑफ से भी कम नंबर आए, यह धोखा है। परीक्षा में प्रदेशभर से बैठे करीब ४.५ लाख अभ्यर्थियों से विभाग ने करोड़ों रुपए कमाए, वहीं मनमर्जी से लोगों को भर्ती कर लिया गया।

उर्मिला जायसवाल का आरोप है, रिजल्ट में बोनस अंक २० दिए हैं, लेकिन इन्हें मूल अंकों में नहीं जोड़ा गया, जबकि आंगनबाड़ी में काम करते हुए १५ साल हो गए थे। ग्रुेजुएट होने के कारण दोनों परीक्षाओं में बैठी। एक में मेरे अंक १२९ दिखाए, जबकि रिजल्ट में ९४ ही थे, वहीं दूसरी परीक्षा में ११६ दिखाए और रिजल्ट में ९४ थे। एेसा मेरे जैसी सैकड़ों अभ्यर्थियों के साथ हुआ है। दोनों परीक्षा के टॉप टेन में ९ अभ्यर्थी भोपाल से हैं।

नौकरी के नाम पर ठगने वाला पकड़ाया
हीरा नगर इलाके से फरार धोखाधड़ी के आरोपित को एसटीएफ ने पकड़ा है। वह नौकरी के नाम पर कई लोगों से रुपए ऐंठ कर गायब हो गया था। एसटीएफ ने बुधवार को बसंत वर्मा निवासी एलआईजी कॉलोनी को पकड़ा। एसपी अरुण मिश्रा की टीम उस पर नजर रख रही थी। बसंत पर हीरा नगर थाने में साल २०१६ में धोखाधड़ी का केस दर्ज हुआ था। उस पर पांच हजार रुपए का इनाम भी घोषित था। उसे हीरा नगर पुलिस को सौंपा गया है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned