रक्षक बने भक्षक, पुलिसवालों ने 20 हजार छीने, 50 हजार के लिए धमका रहे

Arjun Richhariya

Publish: Sep, 16 2017 10:00:52 (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
रक्षक बने भक्षक, पुलिसवालों ने 20 हजार छीने, 50 हजार के लिए धमका रहे

तीन पुलिसकर्मियों की करतूत, चोरी का सोना खरीदने के आरोप में पकड़ा और तीन घंटे घुमाते रहे

 

इंदौर. पुलिसकर्मियों द्वारा दो लोगों को झूठा आरोप लगाकर मारपीट कर व बंंधक बनाकर करीब 20 हजार रुपए वसूलने और 50 हजार रुपए और मांगकर धमकाने का मामला सामने आया है। पुलिस ने रंगे हाथ पकडऩे के लिए जाल भी बिछाया लेकिन पुलिसकर्मी हाथ नहीं आए। मोबाइल नंबर के आधार पर जांच चल रही है।
मल्हारगंज इलाके में रहने वाले सुनील नीमा व नवीन मालवीय के साथ दो-तीन दिन पहले यह घटना हुई। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र के सामने पहुंचे दोनों व्यक्ति ने बताया कि उनसे डबल चौकी में रहने वाले मुन्ना नामक व्यक्ति ने सोना बेचने के लिए संपर्क किया था। मंगलवार को शाम चार बजे मुन्ना को राजबाड़ा की एक दुकान पर मिले। मुन्ना के पास सोने का पेंडल व एक अन्य जेवर था। वहां सराफा में परिचित की दुकान पर चलने को लेकर बात हो रही थी कि इस दौरान खुद को पुलिसकर्मी बताने वाले तीन लोग आए। दो वर्दी में थे जबकि एक के पास राइफल भी थी। इन लोगों ने आते ही चोरी का सोना खरीदने की आरोप लगाकर मारपीट शुरू कर दी। सोना छीनकर इन्होंने मुन्ना को भगा दिया और सुनील व नवीन को अपने साथ नंदलालपुरा के फूले मार्केट पर ले गए और वहां जमकर मारपीट की। पुलिसकर्मी छोडऩे के लिए एक लाख रुपए मांंग रहे थे। बाद में 70 हजार रुपए पर बात बनी। नवीन ने अपनी पत्नी के माध्यम से 20 हजार की व्यवस्था की, जिसे एक पुलिसकर्मी लेकर आया। अगले दिन 50 हजार रुपए देने की बात कहकर पुलिसकर्मियों ने दोनों का वीडियो भी बना लिया।

अगले दिन राजबाड़ा पर 50 हजार रुपए लेकर बुलाया था। जब डीआईजी के पास मामला पहुंचा तो उन्होंने एएसपी अमरेंद्रसिंह को निर्देश देकर सभी को रंगे हाथ पकडऩे के लिए कहा। इस दौरान कथित पुलिसकर्मी लगातार दोनों लोगों को फोन भी लगाते रहे। पुलिस ने जाल भी बिछाया लेकिन संभवत: पुलिसकर्मियों को भनक लग गई तो वे आए नहीं। पुलिस के पास उनके मोबाइल नंबर भी थे लेकिन तीन दिन बाद भी अफसर उन्हें पकड़ नहीं पाए। तीनों पुलिसकर्मी एमजी रोड थाने के बताए जा रहे है। हालांकि अफसर जल्द पकडऩे का दावा कर रहे है। डीआईजी मिश्र का कहना है, मामला जांच में है, जल्द ही दोषियों को पकड़ा जाएगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned