scriptprivatization of banks in India 10101 | महंगा पड़ेगा बैंकों का प्रायवेटाइजेशन | Patrika News

महंगा पड़ेगा बैंकों का प्रायवेटाइजेशन

 

रोजगार छिनने का भय, सेवाओं में कमी की आशंका

इंदौर

Published: December 23, 2021 08:20:57 pm

भोपाल. हाल ही में देश के बैंक कर्मचारियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के बाद यह बात हवा में गूंज रही है कि आखिर सरकारी क्षेत्र के बैंक कर्मचारी बैंकों के निजीकरण का क्यों विरोध कर रहे हैं? बैंकों का इतिहास (1969 से लेकर 2008 तक) बताता है कि पिछले करीब 39 साल में 40 निजी क्षेत्र के बैंक दिवालिया घोषित हो गए। इससे बैंकिंग सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई। इस मामले में बैंक कर्मचारी संगठनों का कहना है कि सरकार इस बार दो सरकारी क्षेत्र के निजीकरण को लेकर संसद में बिल लाने जा रही है। यदि ऐसा होता है तो कई लोगों का रोजगार छिन जाएगा। बैंकिंग सेवाओं में भारी कमी आ जाएगी। निजी क्षेत्र के बैंक आम आदमी को सेवा देने में पीछे हो जाएंगे। वे सिर्फ कॉर्पोरेट सेक्टर की ही सेवा कर पाएंगे। हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तो स्टेट लेवल बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) की बैठक में सरकारी बैंकों की तारीफ की है।

दरअसल सरकार ने अपने बजट में दो बैंकों के निजीकरण संबंधी घोषणा की है। इसके लिए बैंकिंग कानून (संशोधन) बिल 2021 संसद में आने वाला है। यदि ये बिल पास हो जाता है तो सार्वजनिक क्षेत्र की दो बैंक (अभी नाम सामने नहीं आए) और कम हो जाएगी। अभी सरकारी क्षेत्र की देश में 12 बैंक संचालित हो रही है। इसी का बैंक कर्मचारी विरोध कर रहे हैं। हाल ही में उन्होंने दो दिन तक बैंकों में हड़ताल करके ताले नहीं खुलने दिए थे। आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2008 से 2020 तक सार्वजनिक क्षेत्र के 15 बैंकों का विलय हुआ है। पहले सरकारी क्षेत्र के 27 बैंक हुआ करते थे।
bank strike
file photo of bank strike in Indore
बैंकों की स्थिति
1.18 लाख शाखाएं देश में
7900 शाखाएं मध्यप्रदेश में
500 शाखाएं राजधानी भोपाल में

  • एटीएम की स्थिति
    2 लाख से ऊपर देश में
    9200 एटीएम मध्यप्रदेश में
    1000 से अधिक भोपाल और आसपास

इन बैंकों का हुआ मर्जर
-इंडियन बैंक में इलाहाबाद बैंक का मर्जर
-केनरा बैंक में सिंडीकेट बैंक का मर्जर किया
-स्टेट बैंक के 7 एसोसिएट्स बैंक का मर्जर किया
-यूनियन बैंक में आंध्रा बैंक एवं कॉर्पोरेशन बैंक का मर्जर
-बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक एवं देना बैंक का मर्जर
-पीएनबी में ओरिएंटल बैंक और युनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का मर्जर

 

इन बैंकों का नहीं हुआ विलय
सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, यूको बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ इंडिया आदि।

bank_strike_1.jpgकर्मचारियों में भय
बैंक कर्मचारी संगठनों का कहना है कि सरकारी क्षेत्र के बैंकों में आम जनता का रखा पैसा सुरक्षित है। निजीकरण से इन पैसों की सुरक्षा की गारंटी नहीं रहेगी। निजी क्षेत्र के लोग जनता के पैसों का उपयोग कॉर्पोरेट घरानों को देने में करेंगे। साथ ही सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। उनका कहना है कि जनधन योजना में देश में करीब 44 करोड़ खाते खोले गए जिसमें 40 करोड़ से ज्यादा सरकारी बैंकों में खोले गए। नोटबंदी के दौरान 50 दिन में जितना पैसा आया वो सरकारी बैंकों के माध्यम से ही काउंट किया गया।
सरकार का तर्क
बैंकों के निजीकरण को लेकर सरकार का तर्क है कि उसका काम व्यवसाय करना नहीं है। हम (सरकार) इन बैंकों की सरकारी अंशपूंजी बेचकर देश के विकास में लगाएंगे।

सरकारी बैंक की अहमियत
यदि किसी बैंक में सरकारी अंशपूंजी 50 प्रतिशत से ज्यादा है तो सरकारी कहलाएगा और यदि अंशपूंजी 50 प्रतिशत से नीचे पहुंचती है तो उसका स्वरुप बदल जाएगा। देश में अभी सरकारी, निजी क्षेत्रों के बैंकों के अलावा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, कॉपरेटिव बैंक, स्माल बैंक, इंडिया पोस्ट बैंक संचालित हो रहे हैं। इंडिया पोस्ट बैंक की खासियत यह भी है कि यदि आपका किसी बैंक में खाता है और आपके पास आधार कार्ड है तो देश के कुछ चुनिंदा पोस्ट ऑफिस में जाकर आप अपने खाते से 1000 रुपए सिर्फ अंगूठा लगाकर पोस्ट ऑफिस से ही नकद ले सकते हैं।

'बड़ी गलतफहमी है कि बैंकों के निजीकरण होने से ग्राहकों को अच्छी सेवा मिलेगी। निजी बैंक सिर्फ सभ्रांत वर्ग के ही होकर रह जाएंगे। आम आदमी, खेतिहर, मजदूर को सेवाएं नहीं मिल सकेगी। बैंकों में जमा राशि की सुरक्षा पर भी प्रश्नचिन्ह लग जाएगा।'
वीके शर्मा, महासचिव, मप्र बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन

'बैंकों के प्रायवेटीकरण से आम जनता को नुकसान उठाना पड़ेगा। छोटे खाताधारकों की सेवाएं तो लगभग बंद ही हो जाएगी। गरीब वर्ग सरकारी योजनाओं से वंचित हो जाएगा। हायर एंड फायर का दौर शुरू हो जाएगा।'
मदन जैन, महासचिव, एमपी
ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

UP Assembly Elections 2022 : अमित शाह की अखिलेश यादव को खुली चुनौती, बोले- अगर हमारे मुकाबले 10 फीसदी भी काम किया तो जवाब देंटाटा की Air India आज से भरेगी उड़ान, इस तरह करेंगे यात्रियों का स्वागतRRB-NTPC: छात्र संगठनों का आज बिहार बंद का ऐलान, महागठबंधन ने भी किया समर्थन, पड़ोसी राज्यों में अलर्टSC-ST को प्रमोशन में आरक्षण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आजरीट परीक्षा में बड़ा खुलासा: दो करोड़ रुपए में सौदा, शिक्षा संकुल से ही हुआ था पेपर लीकAccident on Highway : हादसे में गई परिवार के चार लोगों की जान,कोहरा बना कालCG Board Exam 2022: बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए बड़ी खबर, 31 जनवरी से आगे बढ़ सकती है प्रैक्टिकल परीक्षा की तारीख, ये है वजहअंडरगारमेंट से भगवान को जोड़नेवाली एक्ट्रेस पर FIR, जानिए किस बात पर भड़का विवाद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.