scriptrakshabandhan date time shubh muhurat 2022 | इस शुभ मुहुर्त में ही बांधे राखी, खुशियों से भरा रहेगा भाईया का घर-परिवार | Patrika News

इस शुभ मुहुर्त में ही बांधे राखी, खुशियों से भरा रहेगा भाईया का घर-परिवार

- रक्षाबंधन पर भद्रा का साया, इस बार प्रदोष काल में मनेगा पर्व

इंदौर

Updated: August 04, 2022 12:20:47 pm

इंदौर। भाई-बहन के त्योहार रक्षाबंधन को लेकर इस वर्ष संशय की स्थिति बनी हुई है। पर्व कब और किस दिन मनाया जाए इसे लेकर धर्मशास्त्रियों के अलग-अलग मत हैं। धर्मशास्त्रों के जानकार मप्र ज्योतिष व विद्वत परिषद के अध्यक्ष आचार्य पं. रामचन्द्र शर्मा वैदिक के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व भद्रा रहित अपरान्ह व्यापिनी पूर्णिमा तिथि में मनाने की शास्त्र आज्ञा है। इस प्रकार की संशययुक्त स्थिति के चलते रात्रि में निशीथ काल प्रारंभ होने के पूर्व प्रदोष काल में ही रक्षा पर्व मना लेना शास्त्र सम्मत रहेगा।

capture.jpg
rakshabandhan

इस वर्ष पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त, गुरुवार को सुबह 10.39 बजे से शुरू होगी जो 12 अगस्त शुक्रवार को सुबह 7.05 बजे तक रहेगी। 11 अगस्त को भद्रा का साया भी रहेगा। इस दिन भद्रा सुबह 10.39 बजे से रात 8.52 बजे तक रहेगी। इस इस प्रकार 11 अगस्त, गुरुवार को अपरान्ह काल में पूर्णिमा तो रहेगी लेकिन भद्रा के चलते रक्षाबंधन का पर्व रात 8.52 के बाद ही मनाया जा सकेगा। रक्षा बंधन, व्रत की पूर्णिमा व यजुर्वेदियों का उपाकर्म इसी दिन होगा।

शुक्रवार को लग जाएगी प्रतिपदा

तिथि भद्रा के मुखकाल में रक्षाबंधन कदापि नही करें। उचित यही होगा कि भद्रा रहित समय में ही रात्रि 8.52 के बाद अपनी अपनी कुल परंपरा के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाना शास्त्र सम्मत रहेगा। कई लोग 12 अगस्त शुक्रवार को रक्षाबंधन पर्व मानकर चल रहे हैं, लेकिन उदयातिथि होने के बावजूद अपरान्ह काल में प्रतिपदा तिथि होने के कारण यह पर्व नहीं मनाया जा सकता।

12 अगस्त को उदय कालीन पूर्णिमा तिथि त्रिमुहुर्त (तीन मुहूर्त) से कम होने से पर्व 11 अगस्त, गुरुवार को ही मनाया जाना धर्म व शास्त्र सम्मत भी है। सामान्यत: भद्रा को शुभ कार्यों में वर्जित किया गया है। आचार्य पं. शर्मा ने बताया कि 11 अगस्त को मकर राशि का चंद्रमा होने से पाताल लोक की भद्रा है। अत: यदि अति आवश्यक व अपरिहार्य कारण हो तो भद्रा का मुख छोड़कर भद्रा के पुच्छ काल अर्थात शाम 5.18 से 6.18 बजे तक श्रीगणेशजी, शिवजी, कुलदेवी व अपने कुलदेवता को रक्षाबंधन कर पर्व मनाया जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.