scriptravana worshiped in country of ram ond dussehra | Dussehra 2022: राम के देश में यहां होती है रावण की पूजा, दशहरे पर भक्त मनाते हैं मोक्ष दिवस | Patrika News

Dussehra 2022: राम के देश में यहां होती है रावण की पूजा, दशहरे पर भक्त मनाते हैं मोक्ष दिवस

locationइंदौरPublished: Oct 05, 2022 05:44:45 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

-राम के देश में रावण की पूजा
-40 साल पहले यहां स्थापित की गई रावण की मूर्ति
-दशहरे को मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं भक्त
-लंकेश का पूजन करने यहां पहुंचते हैं कई लोग

Dussehra 2022
Dussehra 2022: राम के देश में यहां होती है रावण की पूजा, दशहरे पर भक्त मनाते हैं मोक्ष दिवस

इंदौर. देशभर में बीते हजारों वर्षों से नवरात्रि के अगले दिन विजय दशमी के दिन दशहरा पर लोग बुराई पर अच्छाई की विजय का पर्व मनाते हुए रावण दहन करते हैं। लेकिन, मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के अंतर्गत आने वाले देपालपुर में एक परिवार बीते कई वर्षों से रावण की पूजा करता आ रहा है। यही नहीं, परिवार द्वारा यहां रावण का एक भव्य मंदिर भी निर्माण करवाया है, जहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हवन पूजन कर दशहरे को दहन दिवस के बजाय मोक्ष दिवस के रूप में मनाया जाता है।

दरअसल, इंदौर के देपालपुर के अंतर्गत आने वाले परदेशीपुरा में एक ऐसा परिवार है, जो पिछले 40 वर्षों से लंकाधिपति रावण की पूजा करता चला आ रहा है। इसी के चलते करीब 12 साल पहले वर्ष 2010 में उन्होंने विशालकाय रावण की प्रतिमा बनवाकर लंकाधिपति रावण के मंदिर की स्थापना भी की थी। दशहरे के मौके पर पूरा परिवार एकत्रित होकर दशानन रावण की पूजा पाठ करता है। यही नहीं, इस दौरान वैदिक विधि-विधान से मंत्रोच्चार के साथ हवन पूजन भी किया जाता है।

यह भी पढ़ें- 'रावण' ने खोल दी यूनिवर्सिटी की लापरवाही की पोल, रिजल्ट के टेबुलेशन चार्ट से बन रहा था पुतला


रावण से आस्था के चलते पोते का नाम रखा लंकेश

परदेसीपुरा में रहने वाले महेश गोहर और उनका परिवार इस दिन के लिए विशेष तैयारियां भी करते हैं। वही बच्चों से लेकर घर के बुजुर्ग भी रावण की पूजन प्रक्रिया में शामिल होते हैं। रावण की पूजा करने वाले महेश गोहर की लंकाधिपति पर आत्था का उदाहरण इसी से लगाया जा सकता है कि, उन्होंने अपने पोते का नाम भी लंकेश रखा है। उनका मानना है कि, वो रावण की पूजा इसलिए भी करते हैं क्योंकि, उनके हिसाब से रावण ही सर्वोच्च।


रावण के मंदिर में कभी खाली नहीं जाती मांगी गई मन्नत

बताया जाता है कि, यहां सिर्फ महेश गोहर का परिवार ही नहीं, बल्कि अन्य कई लोग भी लंकेश का पूजन करने पहुंचते हैं। ऐसी मान्यता है कि, यहां मांगी जाने वाली मन्नत खाली नहीं जाती, इसलिए भी लोगों की आस्था लंकेश के प्रति बढ़ती जा रही है। मन्नत पूरी होने पर लोग यहां आकर पूजन पाठ कराकर दान पुण्य भी करते हैं।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

दिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशादिल्ली के स्कूल में बम की सूचना से मचा हड़कंप, डिस्पोजल स्क्वॉड मौके परगुजरात चुनाव: भाजपा के पूर्व मंत्री जय नारायण व्यास बेटे के साथ कांग्रेस में शामिलऋतुराज गायकवाड़ ने एक ओवर में 7 छक्के जड़कर बनाया विश्व रिकॉर्ड, युवराज को भी छोड़ा पीछेFIFA 2022 : मोरक्को से हारने पर बेल्जियम में दंगा, पथराव के दौरान दागे आंसू गैस के गोले, कई गिरफ्तारएनालिसिस: मुुलायम की सीट बचाने में कहीं सपा के हाथ से निकल न जाए आजम का गढ़रूबी आ‌सिफ खान बोलीं- भगवान श्रीराम ही हमारे पैंगबर थे, सबसे श्रेष्ठ है सनातन धर्म
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.