scriptReal life story like movie Dangal of Rathore family of Indore | FATHERS DAY SPECIAL- 'म्हारा छोरा-छोरी भी किसी से कम हैं के..!' | Patrika News

FATHERS DAY SPECIAL- 'म्हारा छोरा-छोरी भी किसी से कम हैं के..!'

  • फिल्म दंगल जैसी रीयल लाइफ कहानी इंदौर के राठौर परिवार की
  • बेटे-बेटी को दिया कुश्ती प्रशिक्षण
  • राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कर रहे नाम रोशन

(फादर्स डे स्पेशल)

इंदौर

Updated: June 19, 2022 11:47:05 am

मनीष यादव @ इंदौर.

हम महावीर सिंह फोगाट और उनकी बेटियों की रील और रीयल लाइफ दोनों से अच्छी तरह से परिचित हैं। एक पिता ने मासूम बच्चों को पहलवान बनाकर गांव की मिट्टी से लेकर विदेशों तक पहुंचा दिया। उनके जैसी ही एक कहानी इंदौर की है। अंत सिर्फ बेटियों का है। इसमें एक बेटा और बेटी है। बाकी पिता और उनकी वही सख्ती और जुनून।
हम बात कर रहे हैं देपालपुर निवासी अनिल सिंह राठौर और उनके दोनों बच्चे हंसा बेन उर्फ माही राठौर और बेटे महेश की। अनिल के मुताबिक वह भी पहलवान बनना चाहते थे, लेकिन कुछ कर नहीं पाए। इस पर उन्होंने अपना सपना बच्चों में पूरा करने की सोची। उन्हें कुश्ती के गुर सिखाना शुरू कर दिए। आज दोनों ही राष्ट्रीय स्तर ट्रेनिंग ले रहे हैं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेल चुके हैं।
8 और 10 साल की उम्र से ट्रेनिंग
अनिल ने बताया कि जब दोनों बच्चों की ट्रेनिंग शुरू हुई तो माही 10 और महेश की उम्र आठ साल थी। पहले उन्हें दंगल में लेकर गए ताकि उनके मन में कुश्ती को लेकर रुचि जागे। इसके बाद उनकी ट्रेनिंग शुरू हो गई। सुबह 4 बजे उठाते और फिर कसरत शुरू हो जाती। कुछ दिन कसरत कराने के बाद कुश्ती के दांव-पेंच सिखाना शुरू किया गया।

FATHERS DAY SPECIAL- 'म्हारा छोरा-छोरी भी किसी से कम हैं के..!'
FATHERS DAY SPECIAL- 'म्हारा छोरा-छोरी भी किसी से कम हैं के..!'
FATHERS DAY SPECIAL- 'म्हारा छोरा-छोरी भी किसी से कम हैं के..!'भूसे के ढेर पर ट्रेनिंग
गांव में मेट नहीं होने के कारण ट्रेनिंग में परेशानी आ रही थी। इसके चलते भूसे पर चादर डाल कर मेट तैयार किए। अपने बच्चों के साथ ही दूसरे बच्चों को भी ट्रेनिंग देना शुरू कर दिया। आज गांव के कई बच्चे कुश्ती में महारत हासिल कर चुके हैं।
घर में ही होने लगा विरोध
बच्चों के साथ में शुरुआत में सख्ती करना पड़ी। वे दूध नहीं पीते थे। जोर देने पर उल्टी कर देते। इस पर वे उन्हें उठाते और अपने सामने दूध पीने को कहते। अनिल बताते हैं कि बच्चों से सख्ती का उनके पिता ने विरोध किया। वे इतनी सख्ती नहीं करना चाहते थे। बेटी को सिखाया तो यह कहा गया कि लड़की है, इसको कुश्ती क्यों सिखा रहे हो। इसके बाद भी वे दोनों को ट्रेनिंग देते रहे। आज दोनों ही नेशनल के साथ विदेशों में प्रतियोगिता खेल चुके हैं। अभी खेल अकादमी में आगे की ट्रेनिंग ले रहे हैं ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.