स्टूडियो में रिकार्ड किया और परदे पर दिया परिचय

रोटी-बेटी के रिश्तों से संगठन शक्ति का अहसास,  राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा-  आयोजन परिवार के साथ समाज और राष्ट्र को नए आयाम देंगे

इंदौर. परिवार मेें कोई भी नया रिश्ता होने से उसका प्रभाव पूरे समाज और आने वाली पीढिय़ों पर भी होता है। समान आचरण, समान खान-पान और समान पूजा पद्धति वाले समाजों के बीच रोटी-बेटी के रिश्ते होने से वैश्य समाज को अपनी संगठन शक्ति का भी अहसास होगा। उच्च शिक्षा और बड़े पैकेज पर काम कर रहे प्रत्याशियों को मनचाहा जीवसाथी मिलने से एक सुखी, समृद्ध और खुशहाल परिवार की नींव भी मजबूत होगी। इन रिश्तों से वैश्य घटकों के साथ समाज और राष्ट्र की समृद्धि के नए मार्ग भी खुलेंगे। ऐसे आयोजन परिवार के साथ समाज और राष्ट्र को नए आयाम देंगे।


रविवार को एबी रोड स्थित शुभकारज गार्डन पर वैश्य महासम्मेलन मप्र की मेजबानी में चल रहे दो दिवसीय अभा वैश्य परिचय सम्मेलन के समापन सत्र में वैश्य महासम्मेलन के प्रदेश अध्यक्ष व राज्य के राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने उक्त विचार व्यक्त किए। विधायक जीतू पटवारी व विभिन्न वैश्य समाजों के पदाधिकारियों के विशेष आतिथ्य मेंं सम्मेलन के प्रथम सत्र में प्रत्याशियों के हाईटेक परिचय का शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर समाजसेवी रमेश मित्तल, राम ऐरन, अशोक डागा, पार्षद गोपाल मालू, विष्णु ङ्क्षबदल, गोपाल गुप्ता, गिरधारीलाल सारड़ा, रामविलास राठी आदि उपस्थित थे।


स्वागत राजेश गर्ग, धीरज खंडेलवाल, शिव जिंदल, मनीष वेद, अखिलेश राठी, किशोर गोयल, राजेश बंसल, पुष्पा गुप्ता, संतोष गोयल, गोविंद सिंघल, मनीष लड्डा, सीए प्रकाश गुप्ता, धर्मेंद्र गुप्ता, विभोर ऐरन, राजेश मंगल शुभ लाभ, नरेंद्र कश्यप, राधिकेश सराफ , नेहा काननूगो, मनीषा खंडेलवाल, नीलम बाहेती, अभय अग्रवाल, सोनाली गंगराड़े, साधना दगड़े जैन ने किया। संचालन विकास डागा ने किया। आभार विष्णु बिंदल ने माना। सम्मेलन में सात हजार प्रविष्टियों में से देर शाम तक तीन हजार रिश्तों पर चर्चा का दौर शुरू हो चुका है


३०० बंधुओं का सम्मान
आयोजन से जुड़े 300 से अधिक सहयोगी बंधुओं का सम्मान किया गया। सागर के महापौर अभय दर्रे, टीकमचंद गर्ग, विष्णु बिंदल सहित अन्य अतिथि भी मौजूद थे। मंच पर ही पहले युगल का रिश्ता तय होने पर सम्मेलन संयोजक अरविंद-संगीता बागड़ी, ‘पत्रिका’ के जोनल हेड आरआर गोयल, अभय अग्रवाल ने उनका स्वागत किया। बागड़ी के अनुसार सम्मेलन में हजार से अधिक रिश्ते तय होने की उम्मीद है।


स्टूडियो में रिकॉर्ड परिचय का प्रदर्शन
सम्मेलन में हाईटेक स्टूडियो बनाया था, जिसमें संकोच करने वाले प्रत्याशियों का पूरा परिचय रिकॉर्ड कर मंच से प्रदर्शित किया जा रहा था। एक स्टूडियो में उन प्रत्याशियों का उन्हीं की जुबानी परिचय रिकॉर्ड कर मंच पर लगी एलईडी स्क्रीन पर दिखाया गया। आरआर गोयल ने स्टूडियो में जाकर प्रत्याशियों से परिचय लिया। उन्होंने सम्मेलन
स्थल का निरीक्षण कर कार्यों की सराहना की।


वैश्य घटक एकजुट हों
उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि देश और प्रदेश में किसी भी स्तर के सार्वजनिक कार्यक्रम हों, वैश्य समाज के सहयोग के बिना नहीं होते। अपनी बात को दृढ़ता से लोगों व सरकार तक पहुंचाने के लिए संगठन शक्ति बढ़ाने की जरूरत है। इसी लक्ष्य से वैश्य महासम्मेलन में प्रदेश के 23 में से 20 हजार ग्राम पंचायतों तक संगठन को स्थापित कर दिया है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned