scriptReturning splendor, Rajbada will be seen in its old form | लौट रहा वैभव, पुराने स्वरूप में नजर आएगा राजबाड़ा | Patrika News

लौट रहा वैभव, पुराने स्वरूप में नजर आएगा राजबाड़ा

- नवीनीकरण का 70 प्रतिशत कार्य हुआ पूरा, 1984 में आग से क्षतिग्रस्त हुए हिस्से को भी मिला वही रूप

इंदौर

Published: April 28, 2022 06:29:54 pm

विनय यादव. इंदौर
शहर की पहचान राजबाड़ा अब फिर से अपने पुराने स्वरूप में लौट रहा है। यहां पिछले तीन सालों से स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत जीर्णोद्धार का काम हो रहा है। फिलहाल राजबाड़ा का 70 प्रतिशत तक काम पूरा हो चुका है। राजबाड़ा की जो जगह हादसे में जल गई थी वह फिर से अब पहले की तरह खुबसूरत नजर आने लगी है। राजबाड़ा भीतर से भी काफी खुबसूरत नजर आ रहा है। इसका जीर्णोद्धार पहले इस्तेमाल होने वाले मटेरियल उड़द की दाल, शहद आदि से किया जा रहा है। जिससे इसकी वैसी ही खुबसूरती और रौनक बरकरार रहे। राजबाड़ा पर इन दिनों जीर्णोद्धार और नवीनीकरण का सबसे जटिल काम हो रहा है। राजबाड़ा की मुख्य इमारत की ऊपरी तीन मंजिलों के हर हिस्से को मजबूत बनाया जा रहा है। कई हिस्से में लकडिय़ां सड़ चुकी थी, उनके जाइंट खुल गए थे और ऊपरी हिस्सा कमजोर हो गया था।
आगजनी से खाक हुआ था अंदर का हिस्सा
साल 1984 के दंगों के दौरान राजबाड़ा में आग लगने के कारण अंदर का जो हिस्सा जल गया था वह भी अब फिर नजर आने लगा है। जले हुए हिस्से के बाद बचा हुआ भाग करीब तीन साल पहले बारिश के कारण ढह गया था। इसके बाद स्मार्ट सिटी ने जीर्णोद्धार का कार्य भी शुरू किया गया। जीर्णोद्धार के लिए लकड़ी व टार रॉड का उपयोग कर पिलर को बांध रहे है। जहां के ज्वाइंट खराब हो चुके है, लकड़ी सडकऱ पोली हो गई है। वहां पर ग्राउटिंग कर स्ट्रक्चर को मजबूती दी जा रही है। राजबाड़ा के बाहरी हिस्से में प्लास्टर का कार्य और खिड़कियों की मरम्मत का कार्य हो रहा है। अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल 70 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। राजबाड़ा की मुख्य इमारत की निचली चार मंजिलों के नवीनीकरण का काम पूरा हो चुका है।

लौट रहा वैभव, पुराने स्वरूप में नजर आएगा राजबाड़ा
लौट रहा वैभव, पुराने स्वरूप में नजर आएगा राजबाड़ा
यह है इतिहास
जानकारों के अनुसार सन 1747 में मल्हारराव प्रथम ने राजबाड़ा के निर्माण की शुरुआत की। राजबाड़ा संगमरमर, लकड़ी, ईट और मिट्टी का फ्रेंच, मुगल और मराठा आर्किटेक्ट से बनी भव्य और खूबसूरत ईमारत है। सन 1761 में मल्हारराव प्रथम के समय राजबाड़ा का निर्माण कार्य रुका रहा। जिसके बाद सन 1765 के बाद राजबाड़ा बनकर तैयार हुआ था। राजवाड़ा सात मंजिला महल है। नीचे की तीन मंजिले मार्बल की बनी है और ऊपरी चार मंजिलों को सागौन की लकड़ी से बनवाया गया था। राजबाड़ा का प्रवेश द्वार 6.70 मीटर ऊंचा है। यह द्वार हिंदू शैली के महलों की तर्ज पर बना है। होलकरों का दरबार हॉल जिसे गणेश हॉल कहा जाता है, वह फ्रेंच शैली का अप्रतिम नमूना है। राजबाड़ा के ठीक सामने एक सुंदर सा बगीचा है, जिसके मध्य में महारानी देवी अहिल्याबाई होलकर की प्रतिमा स्थापित है। सन 1801 में सिंधिया के सेनापति सरजेराव घाटगे ने इंदौर पर आक्रमण किया और राजबाड़ा के एक बड़े हिस्से को जला दिया। 1834 में फिर एक बार राजबाड़ा में अचानक आग लगने से उपरी मंजिल पूरी तरह जल गई थी। 1984 में इंदिरा गांधी हत्याकांड के समय भी राजबाड़ा में आग लगा दी गई थी। 2006 में इंदौर की तत्कालीन महारानी उषादेवी होलकर ने इसका पुर्ननिर्माण करवाया और सन 2007 में यह काम पूर्ण हुआ।
लौट रहा वैभव, पुराने स्वरूप में नजर आएगा राजबाड़ा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तारआज चंडीगढ़ की ओर कूच करेंगे किसान, बॉर्डर पर ही बिताई रात, CM भगवंत बोले- 'खोखले नारे' नहीं तोड़ सकते संकल्पवाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर अहम बहस, जानें किन मुद्दों पर हो सकता है फैसलादिल्ली में आज एक बार फिर चलेगा बुलडोजर! सुरक्षा के लिए 400 पुलिसकर्मियों की मांगकांग्रेस नेता कार्ति चिंदबरम के करीबी को CBI ने किया गिरफ्तार, कल कई ठिकानों पर हुई थी छापेमारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.