क्वालिफाइड स्टाफ के बगैर संचालित साईंनाथ हॉस्पिटल

क्वालिफाइड स्टाफ के बगैर संचालित साईंनाथ हॉस्पिटल

Hussain Ali | Updated: 04 Jun 2019, 06:05:50 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की तो हुआ खुलासा, सीएमएचओ ने की कार्रवाई

इंदौर. स्वास्थ्य विभाग को वीणा नगर सुखलिया स्थित साईंनाथ अस्पताल में मरीजों को एक्सपायरी दवाइयां देने की शिकायत मिली थी। जब टीम ने यहां दौरा किया तो दवा तो एक तरफ अस्पताल ही गलत तरीके से संचालित होता मिला। यहां न तो क्वालिफाइड स्टाफ है, न लेबर रूम और ऑपरेशन थियेटर ही है। ऐसे में कभी भी मरीज की जान पर आ सकती है। विभाग की टीम ने यहां का दौरा किया तो यह खुलासा हुआ। अब सीएमएअचो ने अस्पताल संचालक को नोटिस थमाया है। एक माह में अगर अस्पताल प्रबंधन की तरफ से संतोषजनक जवाब नहीं मिलता तो अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिया जाएगा।

दरअसल साईंनाथ अस्पताल में मरीजों को एक्सपायर दवाइयां दी जा रही हैं। ऐसी दवाइयां अस्पताल में है, जो 2018 में ही एक्सपायर हो गईं। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा को इस तरह की शिकायत मिलने के बाद सीएमएचओ ने अस्पताल की जांच के लिए एक टीम बनाई थी। इसमें जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गडरिया, ड्रग इंस्पेक्टर धर्मेश विगोनिया और एक अन्य डॉक्टर को रखा गया था। जब टीम ने जांच की तो सामने आया कि अस्पताल में दवाएं तो गलत तरीके से रखी हुईं थीं, वहीं अस्पताल नर्सिंग होम एक्ट के नियमों का भी उल्लंघन कर रहा था।

जब हमने इस संबंध में जिला स्वास्थ्य अधिकारी से बात की तो उन्होंने बताया की अस्पताल में न तो हमें क्वालिफाइड स्टॉफ मिला, न लेबर रूम और न ओटी। इसके अलावा भी नर्सिंग होम एक्ट के तहत आने वाले कई नियमों का उल्लंघन वहां किया जा रहा था। हमने वहां मौजूद लोगों से इस पर जवाब मांगा तो वे उचित जवाब नहीं दे सके। इसके बाद सीएमएचओ कार्यालय में अपनी रिपोर्ट सबमिट कर दी।

निलंबन की कार्रवाई करेंगे
इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा का कहना है कि साईंनाथ अस्पताल शासन के नियमों की अवहेलना कर रहा था। हमने टीम बनाई तो जांच में ये बातें सामने आईं। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन को शासन के नियमानुसार एक माह का समय दिया है। अगर अस्पताल प्रबंधन एक माह में उचित जवाब नहीं दे पाता है तो अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिया जाएगा।

पक्षपातपूर्ण कार्रवाई कर रहे अधिकारी
कार्रवाई गलत तरीके से की जा रही है। मेरे अस्पताल पर कार्रवाई कर रहे हैं, जबकि शहर के सभी अस्पतालों में लापरवाही की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पक्षपातपूर्ण कार्रवाई कर रहे हैं। हमारे यहां मेडिकल स्टोर संचालित ही नहीं होता। अस्पताल में जो खामियां हैं, वो तो सभी अस्पतालों में हैं।
-डॉ. मुकेश चौहान, संचालक साईंनाथ अस्पताल

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned