व्यापारी से ब्याज वसूलने पर सेवानिवृत्त कर्मचारी सहित चार पर केस दर्ज

व्यापारी से ब्याज वसूलने पर सेवानिवृत्त कर्मचारी सहित चार पर केस दर्ज
crime

Krishnapal Singh Chauhan | Publish: Apr, 11 2019 07:02:03 AM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

सराफा थाना क्षेत्र का मामला, आरोपियों ने व्यापारी से कोरे चेक लेकर झूठे केस में उलझाने की दी थी धमकी

 

सराफा व्यापारी से लंबे समय से मोटा ब्याज वसूलने वाले सेवानिवृत्त कर्मचारी सहित चार के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है। व्यापार में नुकसान होने पर फरियादी रकम नहीं चुका पाए तो आरोपियों ने मोटा ब्याज वसूला। बाद में सभी झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगे। इसके बाद परेशान होकर व्यापारी ने पुलिस की शरण ली।

जांच अधिकारी जितेंद्र सिंह के मुताबिक फरियादी राधेश्याम सोनी निवासी शक्कर बाजार की शिकायत पर आरोपी राकेश कुमार पिता माणिकलाल बामोरिया निवासी महालक्ष्मी नगर, उनकी पत्नी किरण, बेटे के खिलाफ मध्यप्रदेश ऋणियों का संरक्षण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है। फरियादी की ज्वेरलरी शॉप है। आरोपी पक्ष कई बार उनसे ज्वेलरी खरीदने के बहाने मिल चुके है। इसके बाद दोनों पक्षों में मधुर संबंध बन गए। कुछ वर्ष पूर्व व्यापारी ने तंगी के चलते सरकारी विभाग से सेवानिवृत्त राकेश कुमार से रुपए उधार लिए। जिसे आरोपी डेली कलेक्शन के रूप में उनसे वसूलने लगे। व्यापार में नुकसान होने पर व्यापारी जब ऋण नहीं चुका पाए तो आरोपी ने पेनल्टी के नाम पर मोटा ब्याज वसूला। मूल राशि देने के बाद उनसे डेढ़ लाख वसूले गए। आरोपियों ने उन्हें ऋण लेने के लिए बाध्य करते हुए अमानत के तौर पर १० कोरे चेक ले लिए। फिर बाद में अवैध रूप से रुपया वसूलने का काम शुरू कर दिया। सभी रुपए नहीं देने पर झूठे प्रकरण में उन्हें फंसाने की धमकी देने लगे। परेशान होकर व्यापारी ने पुलिस में शिकायत की। प्रथम दृष्टया जांच में आरोपियों द्वारा बगैर लाइसेंस के ब्याज वसूलने की बात सामने आई है। जल्द इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned