पर्यावरण को शुद्ध करने अधिक पौधे लगाएं

पर्यावरण दिवस पर पर्यावरण संवर्धन दीपयज्ञ कार्यक्रम का हुआ आयोजन

आलीराजपुर. अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के निर्देशन में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर गायत्री शक्तिपीठ द्वारा पर्यावरण संवर्धन दीपयज्ञ का कार्यक्रम हनुमान मंदिर तुलसीमाता चौराहा बोरखड़ प्रांगण पर आयोजित किया गया। गायत्री शक्तिपीठ के व्यवस्थापक संतोष वर्मा बताया कि कार्यक्रम के मुख्य वक्ता वरिष्ठ ट्रस्टी जीएल भाटिया ने पर्यावरण संवर्धन के संबंध में कहा कि प्रकृति एक साल में जितना बनाती है, हम उसे सात माह में खत्म कर देते हैं। पॉलीथीन एक खतरनाक वस्तु है। भारत में बीस गाय रोज पॉलीथीन खाने से मरती है तथा एक लाख से ज्यादा जलीय जंतु प्लास्टिक खाने से मर जाते हंै। पर्यावरण को शुद्ध करने के लिए हमें अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि एक पेड़ अपने जीवन काल में 455 लाख का अनुदान देता है, जिसमें ऑक्सीजन, पानी, हवा, फल, फुल, लकड़ी आदि है, फिर भी 15 अरब पेड़ हर साल कटते है। ग्लोबल वार्मिंग से मलेरिया, फ्लू, अस्थमा जैसे बीमारियां फैलती है व प्लास्टिक के जलने से कैंसर जैसे रोग होते हैं। पर्यावरण के खतरों से बचाव के लिए हमें एक लोटा जल प्रतिदिन सूर्य भगवान को अघ्र्य करें व गायत्री मंत्री की समूह साधना करें व संकल्प करें कि हम पॉलिथीन का उपयोग नहीं करेंगे।
घर-घर जाकर संपर्क कर दिया निमंत्रण
सर्वप्रथम देवपूजन कर एक प्रज्ञा गीत की प्रस्तुत दी गई। इसके बाद वैदिक मंत्रों द्वारा दीपयज्ञ कार्यक्रम महिला मंडल की गायत्री जगदीशचन्द्र राठौड़ द्वारा संपन्न कराया गया। बहारपुरा महिला मंडल की विद्या धनराज राठौड़ व अन्य महिलाओं ने घर घर जाकर संपर्क व आमंत्रण देकर कार्यक्रम को सफल बनाने का निवेदन किया। कार्यक्रम का संचालन भुरसिंह भिंडे द्वारा किया गया तथा आभार हेमेन्द्र चौहान माना। गायत्री परिवार से रतनलाल माली, दीपक राठौड़, बद्रीलाल राठौड़ आदि का विशेष सहयोग रहा। इसके अलावा कार्यक्रम में विशेष सहयोगी हनुमान मंदिर तुलसीमाता चौराहा बोरखड़ समिति के सदस्य दिनेश एस राठौड़, किटु धनराज राठौड़, प्रवीण परमार, राजेश राठौड़ प्रमोद राठौड़ रहे।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned