महिला संबंधी गंभीर अपराध सुलझाएगी स्पेशल टीम

महिला संबंधी गंभीर अपराध सुलझाएगी स्पेशल टीम

amit mandloi | Publish: Nov, 15 2017 04:15:26 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

पीडि़ता को न्याय दिलाने की कोशिश... भोपाल में गैंगरेप के बाद एडीजी का निर्णय, २५ दिन में पेश होगा चालान

रीना शर्मा विजयवर्गीय
इंदौर. भोपाल में गैंग रेप के बाद महिलाओं संबंधी अपराधों को लेकर पुलिस गंभीर है। महिलाओं से जुड़े गंभीर मामलों में जांच की जिम्मेदारी अब महिला अपराध सेल की विशेष टीम की होगी। विभाग का दावा है, इससे जांच में तेजी आएगी। २५ दिन में चालान पेश होने और स्पीड-अप ट्रायल से पीडि़ता को जल्द न्याय मिलेगा।
प्रदेश में दुष्कर्म और छेड़छाड़ के मामलों में बढ़ोतरी के साथ घटना के बाद पीडि़ता की परेशानियों को देखते हुए एडीजी अरुणा मोहन राव ने बैठक ली, जिसमें निर्णय लिया गया कि महिला अपराध शाखा ऐसे गंभीर मामलों की विवेचना करेगी। डे टू डे बेसिस पर विवेचना होगी। २५ दिन में चालान पेश किया जाएगा।

१५ जिलों के गंभीर अपराध सुलझाएगी शाखा
इंदौर व उज्जैन संभाग के १५ जिलों में महिला संबंधी गंभीर अपराधों की जांच महिला अपराध शाखा की स्पेशल टीम करेगी। इसके लिए सभी थानों से मामले महिला शाखा की स्पेशल विंग के पास पहुंचेंगे।
यहां बनेगी स्पेशल टीम
इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर।
120 का अमला, टीम हो रही तैयार
इंदौर महिला अपराध शाखा में ८ डीएसपी, १२ टीआई और एसआई व एएसआई, हेड कांस्टेबल और हवलदार समेत १२० का अमला है। इनसे ही स्पेशल टीम बन रही है।


चार महानगरों में बनी टीम
शासन ने प्रदेश के चार महानगरों में डीआईजी स्तर के अधिकारियों की पदस्थापना की है, जो महिला अपराधों का पर्यवेक्षण करेंगे। गंभीर स्थितियों में पुलिस मुख्यालय के माध्यम से महिला प्रकोष्ठ के माध्यम से विवेचना करेंगे। इसके लिए स्पेशल टीम तैयार हो चुकी है। महिला संबंधी अपराध खासतौर पर दुष्कर्म केस में लेटलतीफी और लापरवाही नहीं बरती जाएगी।

- गौरव राजपूत, डीआईजी, महिला अपराध शाखा

२५ दिन में चालान पेश होने और स्पीड-अप ट्रायल से पीडि़ता को जल्द न्याय मिलेगा।

इंदौर व उज्जैन संभाग के १५ जिलों में महिला संबंधी गंभीर अपराधों की जांच महिला अपराध शाखा की स्पेशल टीम करेगी।

Ad Block is Banned