scriptThe campaign against the dealer of plots on the diary slowed down | डायरी पर प्लॉटों का सौदा करने वाले के खिलाफ मुहिम ठंडी पड़ी | Patrika News

डायरी पर प्लॉटों का सौदा करने वाले के खिलाफ मुहिम ठंडी पड़ी

प्रशासन ने कॉलोनाइजर व 16 दलालों को बुलाकर किया वांड ऑवर

इंदौर

Published: December 07, 2021 08:36:43 pm

इंदौर. डायरी पर प्लॉटों का सोदा करने बाले कॉलोनाइजर व दलालों पर कलेक्टर ने नकेल कसी थी। 16 दलालों को नोटिस देकर बांडओवर भी किया। सभी कॉलोनाइजर को चेतावनी दी गई थी कि वे निगकरण कर दें, नहीं तो कार्रवाई होगी। समय के साथ ये मुहिम ठंडी पड़ गई, जबकि कई पीड़ितों ने एसडीएम को शिकायतें कर रखी हैं।

patrika_mp_4.png

अयोध्यापुरी, श्री महालक्ष्मी नगर और पुष्य नगर में गृह निर्माण संस्था के सदस्यों को प्लॉट दिलाने के बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने प्राइवेट कॉलोनाइजर व दलालों पर भी कसावट की थी। उन्होंने साफ कर दिया था कि डायरी पर प्लॉट बेचने वालों को बक्शा नहीं जाएगा। किसी भी खरीदार को दर-दर भटकने नहीं दिया जाएगा, ना ही अब कोई धोखाधड़ी का शिकार होगा।

सख्ती दिखाते हुए कलेक्टर ने 16 दलालों को चिन्हित भी किया, जिन्हें अपर कलेक्टर राजेश राठौर ने नोटिस भी थमाए। पेश होने के बाद एक को जेल की हवा भी खिला दी। सभी ने बांड भरकर बताया कि वे अब वे डायरी पर काम नहीं करेंगे। इसके अलावा कलेक्टर ने कॉलोनाइजरों को भी समय दिया था कि बे पीड़ितों की शिकायतों को दूर कर दें नहीं तो कार्रवाई होगी।

इस पर कई लोगों ने एसडीएम को लिखित में शिकायत पेश की। उसको लेकर वे अभी भी भटक रहे हैं। न तो कॉलोनाइजर उन्हें भाव दे रहे हैं और न एसडीएम उनकी सुनवाई कर रहे हैं। आवेदन आकर रखे हुए हैं। जांच के नाम पर उन्हें पटक रखा है। इधर, पीड़ित चक्कर भी लगा रहे हैं, जिन्हें सही जवाब नहीं मिल रहा। बताया जाता है कि कुछ पीड़ितों ने बड़े अधिकारियों को भी शिकायत की है कि उनकी सुनवाई नहीं हो रही, पर उन्हें कोई जवाब नहीं दिया जा रहा। गौरतलब है कि डायरी पर प्लॉट बेचने वालों की सूची में शहर के कई बड़े जमीनी खिलाड़ी है, जिसमें दीपक मददा, चंपू अजमेरा, चिराग शाह, हैप्पी धवन, प्रफुल्ल सकलेचा और अमरलाल बजाज का नाम शामिल है।

ऐसी भी आ रही शिकायतें
शिकायतकर्ता को एक एसडीएम ने तो यहां तक बोल दिया कि आपकी डायरी सही है या नहीं, हमको कैसे आलम? उसकी जांच कराई जाएगी । डायरी गलत निकली तो बुम्हरे भी मुकदमा दर्ज कराया जा सकता है। लेकर शिकायतकर्ता का कहना था कि डायरी पर पैसा दिया है। अब ये असली है या नकली, ये कौन तय करेगा? बताया जाता है कि ऐसी बात वह एसडीएम कई शिकायतकर्ता को कह चुके है। बताते हैं कि इसमें से दर तो डर भी गए, लौटकर नहीं आए। अब सवाल खड़े हो रहे है कि पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए मुहिम चल रही है या शिकायतों को खत्म करने के लिए लगे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.