Indian Railway : रेलवे में इस अफसर ने कर दिया लाखों का घोटाला

Indian Railway : रतलाम मंडल के इंदौर रेलवे स्टेशन का एक बड़ा घोटाला सामने आया है। यहां कोचिंग डिपो के एक अफसर ने 2017 में 16 लाख रुपए का घोटाला कर दिया। अब जब ३० नवंबर को अफसर सेवानिवृत्त होने जा रहा है तो रेलवे को रिकवरी की याद आई है। इसमें भी मंडल अफसर पूरे मामले को दबाने में लगे हैं।

संजय रजक@इंदौर. दरअसल पूरा मामला कोचिंग डिपो के लॉन्ड्री भंडारण से जुड़ा हुआ है। यहां २०१७ में कारखाना लेखा कार्यालय दाहोद के स्टॉक वैरिफायर ने ऑडिट किया था, जिसमें करीब २५ लाख रुपए से अधिक का लीलन व अन्य सामान कम मिला। इस पर वैरिफायर ने रतलाम मंडल के वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर विभाग को रिकवरी करने के लिए पत्र लिखा था। इसमें करीब १६ लाख रुपए की रिकवरी नहीं हुई है।

दो शीट हो गईं गायब

इस घोटाले को दबाने के लिए इंदौर से लेकर रतलाम मंडल के अफसर एकजुट हो गए हैं और स्टाक वैरिफायर की बनाई गई तीन स्टॉक शीट में से 12 लाख 33 हजार 180 रुपए और 4 लाख 22 हजार 25 रुपए वाली स्टॉक शीट को गायब कर दिया गया। पहली स्टॉक शीट को लेकर कार्रवाई की गई।

ऐसे किया खेल

दरअसल ट्रेनों के एसी कोच में बेडशीट, पिलो कवर, नैपकिन की धुलाई के लिए निजी फर्म को काम दिया जाता है, जबकि निगरानी कोचिंग डिपो से होती है। सारी सामग्री रेलवे की होती है। कई बार लीलन अटेंडर या ठेकेदार माल कम कर लेता है। इसके लिए संबंधित इंचार्ज को तत्काल फर्म से रिकवरी करना होती है, लेकिन तत्कालीन इंचार्ज बरगडिय़ा ने निजी फर्म पर दबाव हीं नहीं बनाया। विभागीय सूत्रों के अनुसार आपसी सहमति से रेलवे को लाखों रुपए का नुकसान पहुंचाया गया।

अब बचाने में लगे अफसर

मंडल के अनुशासनिक प्राधिकारी ने राजेंद्र प्रसाद बरगडिय़ा को आरोप पत्र जारी कर कहा कि स्टॉक शीट में 56603 रुपए का भौतिक सत्यापन नहीं है। यह कृत्य गंभीर व अशोभनीय है। रेल सेवा (आचरण) नियम 1966 के उपनियम 1 के उल्लंघन के लिए आरोपित किया जाता है।

ऐसे हुआ खुलासा

विभागीय सूत्रों के अनुसार एसएसई जनरल राजेंद्र प्रसाद बरगडिय़ा के लॉन्ड्री इंचार्ज रहते हुए कारखाना लेखा कार्यालय दाहोद के स्टॉक वैरिफायर ने 30 जनवरी 2017 को लॉन्ड्री के स्टॉक का मिलान किया था, जिसमें लीनन ऑन हैंड, गाड़ी में रनिंग और लॉन्ड्री में धुलाई में गए लीलन का ऑन बुक मिलान किया जाता है। इस दौरान तीन स्टॉक शीट तैयार की गई थी। पहली स्टॉक शीट में 9 लाख 33 हजार रुपए का माल कम मिला। दूसरी स्टॉक शीट में 12 लाख 33 हजार 180 रुपए कीमत का मॉल नहीं मिला। तीसरी स्टॉक शीट में 4 लाख 22 हजार 25 रुपए का माल कम मिला। इस संबंध में कारखाना लेखा कार्यालय दाहोद ने 18 सितंबर 2018 को रतलाम डीएमई को रिमाइंडर लेटर भी लिखा।
वर्जन...
अगर स्टॉक शीट एक से अधिक है तो उसकी जानकारी भेज दीजिए। हम दाहोद में चेक करवा लेते हैं।
- कमल चौधरी, सीनियर डीएमई, रतलाम मंडल
*
अगर संबंधित अफसर पर किसी भी तरह की रिकवरी है तो संबंधित विभाग और वरिष्ठ अफसरों को सूचित करेंगे।
- जितेन्द्र कुमार जयंत, पीआरओ रतलाम मंडल

Sanjay Rajak Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned