आज सुबह से थम गए ट्रकों के पहिये

ट्रांसपोर्टर्स की अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू, दोपहर में संभागायुक्त को सौंपेंगे ज्ञापन, टोल प्रणाली में भी हो बदलाव, नेशनल टोल परमिट जारी करने की मांग

By: Sanjay Rajak

Published: 20 Jul 2018, 11:01 AM IST

न्यूज टुडे.इंदौर.
आज सुबह से इंदौर सहित देशभर में ट्रकों की अनश्चितकालीन हड़ताल शुरू हो गई है। नए एक्ट का विरोध और डीजल पर जीएसटी लगाने की मांग को लेकर सुबह ७ बजे जो ट्रक जहां था, वहीं खड़ा हो गया।

इस हड़ताल से इंदौर में एक दिन में करीब २०० करोड़ रुपए का व्यापार प्रभावित होगा। असल में हड़ताल रात १२ बजे से ही शुरू होना थी, लेकिन प्रदेश की बड़ी सब्जी मंडी होने के कारण सुबह ५ बजे तक ट्रक फल-सब्जी लेकर आते रहे। कल सुबह चोइथराम सब्जी मंडी भी प्रभावित होगी। इंदौर से १५ हजार से अधिक ट्रकों का संचालन किया जाता है। इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन के राजेंद्र त्रेहान ने बताया कि हमारा व्यापार का ७० फीसदी हिस्सा डीजल पर ही खर्च हो जाता है। अगर सरकार डीजल को जीएसटी के दायरे में ले आती है तो डीजल की कीमत में काफी कमी आएगी।

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस न्यू देहली मैनेजिंग कमेटी के मेंबर विजय कालरा ने बताया कि सरकार ने वाहन का वेट बढ़ा दिया है। पहले ९ टन के ट्रक होते थे। अब नई गाडिय़ों के लिए ११.५ टन कर दिया गया है। हम चाहते हैं कि पुरानी गाडिय़ों को बाहर कर दिया जाए। इसके अलावा टोल प्रणाली में बदलाव होना चाहिए। नेशनल परमिट की तरह नेशनल टोल परमिट जारी किए जाने चाहिए ताकि समय और डीजल देानों की बचत हो।

कमिश्नर कार्यालय जाएंगे
कालरा ने बताया कि आज दोपहर सभी ट्रांसपोटर्स कमिश्नर कार्यालय जाएंगे। यहां अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा जाएगा। राजेंद्र त्रेहान ने बताया कि शनिवार से हड़ताल का असर दिखने लगेगा। सरकार से बातचीत का दौर जारी है, लेकिन अभी तक सभी बातचीत बेनतीजा निकली है।

यह होगा असर

शकर, फल, सब्जी, उद्योगों का कच्चा माल, परचून, अनाज आदि नहींं आएगा, जिसका असर तीन दिन बाद से दिखने लगेगा।

Sanjay Rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned