बीआरटीएस के चौराहों पर है ट्रैफिक के लिए नहीं है परफेक्ट

बीआरटीएस के चौराहों पर है ट्रैफिक के लिए नहीं है परफेक्ट

Pramod Mishra | Publish: Sep, 16 2018 12:54:53 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 12:54:54 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

इंजीनियरिंग छात्रों की टीम ने किया सर्वे, पैदल यात्रियों के लिए कोई व्यवस्था नहीं, मार्किंग पर भी ध्यान नहीं


प्रमोद मिश्रा
इंदौर. करोड़ों रुपए खर्च कर बनाए गए बीआरटीएस के अधिकांश चौराहों पर सामान्य ट्रैफिक व्यवस्था के लिए सुविधाएं नहीं है, लेफ्ट टर्न हो या पर मार्किंग कोई भी परफेक्ट नहीं है। अधिकांश चौराहों पर पैदल यात्रियों के चलने के लिए सुविधा भी नजर नहीं आती है।
बीआरटीएस के अधिकांश चौराहों पर शाम के समय ट्रैफिक जाम की स्थिति बन जाती है, कई चौराहों पर तो लगातार एक्सीडेंट भी होते है। डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के निर्देशन पर तत्कालीन एएसपी ट्रैफिक डॉ. प्रशांत चौबे ने चौराहों की व्यवस्था सुधारने के लिए निजी इंजीनियरिंग कॉलेज के विद्यार्थियों से मदद मांगी थी। सिविल इंजीनियरिंग के छात्रों ने अफसरों के निर्देश पर ट्रैफिक पुलिस की टीम के साथ जाकर चौराहों को देखा। बीआरटीएस के भंवरकुआं चौराहे से लेकर देवास नाका चौराहे तक के सभी चौराहों पर घंटों खड़े रहकर व तकनीकी के आधार पर जांच करते हुए इन्होंने अपनी सर्वे रिपोर्ट बनाई। पिछले दिनों एएसपी महेंद्र जैन व टीम के सामने सर्वे की जानकारी भी रखी गई और अब इसे एक किताब का रूप दिया जा रहा है। इंजीनियरिंग छात्रों ने जो सर्वे किया उससे साफ होता है कि बीआरटीएस का एक भी चौराहा इस समय परफेक्ट नहीं है। सभी में कई तरह के कार्य की जरूरत है।

इस टीम ने देखी चौराहे की व्यवस्था
निजी कॉलेज के इंजीनियरिंग छात्र वरुण केशरी, राधेश्याम अचोलिया, अर्चित निगम, पियूष डेडगे, अमनसिंह राणा, हर्षदीप मालवीय व लवदीप नेरनिया की टीम ने चौराहों पर जाकर बारिकी से अध्ययन के बाद अपनी सर्वे रिपोर्ट बनाकर अफसरों को रुबरू कराया है।

पैदल यात्रियों के लिए नहीं है सुविधा
लोक परिवहन के बढ़ावा देने के लिए बने बीआरटीएस पर सबसे महत्वपूर्ण पैदल चलने वाले लोग है। यहीं लोग बसों में सफर करते है। पैदल यात्रियों के लिए पेडेस्ट्रियन बाक्स बनाए जाते है जहां वे आराम से चल सके लेकिन सर्वे में पता चलता है कि अधिकांश जगह इसकी कमी है।

भंवरकुआं चौराहा
- खंडवा रोड से बीआरटीएस का लेफ्ट टर्न (थाना भवन) बाधित है। सड़क पर गड्ढे है।
- खंडवा रोड से नौलखा की ओर पैदल यात्रियों के लिए कोई सुविधा नहीं है।
- संकेतक व चेतावनी चिन्ह का आभाव है।

नौलखा चौराहा
- रिंग रोड से भंवरकुआं की ओर जाने वाला लेफ्ट टर्न क्लीयर नहीं है।
- अग्रसेन नगर से भंवरकुआं की ओर जाने के लिए कोई रोड मार्किंग व स्टॉप लाइन नहीं है। गड्डे भी बहुत है।
- संकेतक व चेतावनी चिन्ह नहीं है।

जीपीओ चौराहा
- छावनी से आने वाले रोड का लेफ्ट टर्न ठीक नहीं है।
- जेब्रा क्रासिंग, स्टॉप लाइन जैसी कोई मार्किंग नहीं।
- छावनी व नौलखा जाने वाले पैदल यात्रियों के लिए जगह नहीं।
- संकेतक व चेतावनी चिन्ह नहीं है।

व्हाइट चर्च चौराहा
- वल्र्ड कप चौराहा व रेसीडेंसी की ओर से आने वाला लेफ्ट टर्न ठीक नहीं है। सामने की साइड पर पोल बाधक है।

गीता भवन चौराहा
- गीता भवन चौराहे की ओर व साउत तुकोगंज जाने वाले रास्ते पर पैदल यात्रियों के लिए सुविधा नहीं।
- गीता भवन मंदिर से आने वाली सड़क का लेफ्ट टर्न बाधक है।
- रोड मार्किंग भी नहीं है।
- संकेतक व चेतावनी बोर्ड नहीं है।

इंडस्ट्री हाउस तिराहा
- पलासिया व जंजीरवाला चौराहे की ओर से आने वाला मोड़ संकरा है।
- कहीं रोड मार्किंग नहीं है। जेब्रा क्रासिंग व स्टॉप लाइन भी नजर नहीं आती।
- पूरे चौराहे पर पैदल यात्रियों के लिए जगह नहीं है।
- संकेतक व चेतावनी चिन्ह का आभाव है।

एलआईजी चौराहा
- पलासिया से आने वाला मोड़ बाधित है।
- रिंग रोड से आने वाली सड़क पर कोई मार्किंग नहीं है।
- पलासिया से आने वाले मार्ग पर गड्ढी है।
- संकेतक व चेतावनी बोर्ड नहीं है।

चंद्रनगर चौराहा
- चंद्रनगर वाले मोड़ पर सुधार की आवश्यकता है, स्टॉप लाइन व जेब्रा क्रासिंग नहीं है।
- बजरंग नगर से आने वाले एमआर-9 पर पेडेस्ट्रियन बाक्स चालू नहीं है, विजयनगर की ओर आने से पेडेक्ट्रियन बाक्स दिखाई नहीं देता।
- न कोई मार्किंग है और न ही संकेतक व चेतावनी बोर्ड।

रसोमा चौराहा
- विजयनगर से आने वाले मार्ग पर सुधार की जरूरत है, पेड़ के कारण मोड़ बाधित, भमोरी व पाटनीपुरा जाने वाले मार्ग पर लेफ्ट टर्न बाधित है।
- मेदांता व विजयनगर जाने वाले मार्ग पर पेडेस्ट्रियन बाक्स उपलब्ध नहीं है, रसोमा वाले मार्ग पर पेडेस्ट्रियन बाक्स सुचारू नहीं है।
- न मार्किंग न जेब्रा क्रासिंग है।

विजयनगर चौराहा
- सयाजी की ओर से आना वाला रोड बाधित व संकरा है, व्यवसायिक व राजनीतिक होर्डिंग्स के कारण यातायात बाधित होता है।
- सभी मार्गों पर छोटे-छोटे गड्ढे हो गए है, दुर्घटनाएं भी होती रहती है। यहां अतिशीघ्र सुधार की आवश्यकता है।
- पैदल यात्रियों के लिए जगह है लेकिन सुचारू नहीं होने से इस्तेमाल नहीं हो पाता।
- स्टॉप लाइन, जेब्रा क्रासिंग बनाने की जरूरत है, संकेतक बोर्ड भी नहीं है।

देवास नाका चौराहा
- सत्य साईं से निरंजनपुर जाने वाले मार्ग के अलावा तीन मार्गों पर बाया मोड़ बाधित है। रेत व गिट्टी के ढेर से ट्रैफिक बाधित होता है।
- निरंजनपुर व पंचवटी से आने वाले मार्ग पर मार्किंग नहीं है, रिंग रोड व पंचवटी के मार्ग पर स्टॉप लाइन भी नहीं है।
- पैदल चलने वाले लोगों के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। मार्किंग भी नहीं है।

सभी विभाग मिलकर काम करेंगे- डीआईजी
ट्रैफिक की व्यवस्था सुधारने के लिए पुलिस सभी विभागों के साथ मिलकर काम कर रही है। इसी कड़ी में चौराहों की ग्राउंड रिपोर्ट पर काम हुआ है। जो भी परेशानी सामने आ रही है उन्हें सुधारने के लिए सभी काम करेंगे।
हरिनारायणाचारी मिश्र, डीआईजी।

सड़क सुरक्षा समिति के सामने रखेंगे
छात्रों ने चौराहों का सर्वे किया है। सर्वे के निष्कर्ष को सड़क सुरक्षा समिति के सामने रखा जाएगा और फिर वहां से सुधार के लिए काम शुरू होगा।
महेंद्र जैन, एएसपी ट्रैफिक।

Ad Block is Banned