इंदौर के ट्रैफिक के लिए मेट्रो से ज्यादा मुफीद है स्काय बस

आइआइएम इंदौर के डायरेक्टर प्रो. हिमांशु राय ने तैयार किया प्रस्ताव

By: हुसैन अली

Published: 29 Mar 2019, 02:41 PM IST

इंदौर. एक दशक से शहर को जिस मेट्रो ट्रेन का इंतजार है, उसकी उपयोगिता को लेकर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आइआइएम) इंदौर के डायरेक्टर ने सवाल उठाए हैं। उनके अनुसार अव्यवस्थित ट्रैफिक का समाधान निकालने के लिए मेट्रो ट्रेन की तुलना में स्काय बस ज्यादा ठीक होगी। इस बारे में उन्होंने प्रस्ताव तैयार किया है, जिसे जल्द सरकार को सौंपेंगे। केंद्र सरकार से इंदौर के लिए मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट को हरी झंडी के बाद डिपो के लिए छोटा बांगड़दा स्थित वन विभाग की जमीन चुनी गई है। मेट्रो ट्रेन कंपनी व जिला प्रशासन इस जमीन को पाने के लिए वन विभाग के संपर्क में है। मेट्रो के चार रूट में से एक रिंग रोड वाले रूट के लिए हाल में जियो टेक्निकल सर्वे भी शुरू हो गया। यह रूट करीब ३१ किमी का रहेगा।

इस बीच आइआइएम ने जो रिपोर्ट तैयार की, उसके अनुसार सिर्फ मेट्रो चलाने से शहर के ट्रैफिक की समस्या का समाधान नहीं निकल सकता। आइआइएम डायरेक्टर प्रो. हिमांशु राय का कहना है कि इंदौर में मेट्रो लाना अच्छा है, मगर यहां के ट्रैफिक का सही समाधान स्काय बस है। इसमें मेट्रो की तुलना में जगह कम लगेगी। स्काय बसें शहर के ज्यादा क्षेत्रों से गुजर सकती हैं। मेट्रो की तुलना में इसके स्टेशन भी ज्यादा रहेंगे। इससे अधिकतम क्षेत्र के मुसाफिर इसका इस्तेमाल करेंगे। मेलबर्न में यह बहुत सफलतापूर्वक चल रही है। मालूम हो, आइआइएम इंदौर शासन के साथ मिलकर कई प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। वे ये सुझाव प्रभारी मंत्री बाला बच्चन को दे सकते हैं।

रोप-वे का भी प्रस्ताव
ट्रैफिक समस्या के समाधान के लिए शहर में रोप-वे के विकल्प पर भी विचार चल रहा है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इसका सुझाव दिया है। बीते दिनों एआइसीटीएसएल कार्यालय में रोप-वे तैयार करने वाली कंपनी ने इसका प्रजेंटेशन भी दिया था।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned