ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें

ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें
ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें

Reena Sharma | Updated: 06 Oct 2019, 09:39:11 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

कलेक्टर ने कहा, आपूर्ति प्रभावित नहीं होने दी जाएगी

शहर के 90 पेट्रोल पंप में से 25 से ज्यादा में हो गया स्टॉक खत्म

इंदौर. महंगे डीजल और ट्रकों पर लाइफ टाइम टैक्स हटाने की मांग को ले कर ट्रांसपोर्टर व टैंकरों की हड़ताल के दूसरे दिन भी प्रदेशभर में ट्रक-टैंकर के पहिए थमें रहे। रविवार को बाजार बंद होने से ट्रांसपोर्टर की हड़ताल का असर अभी एक दो दिन में नजर आएगा, लेकिन टैंकर के पहिए थमने के कारण पेट्रोल-डीजल का परिवहन प्रभावित हुआ और दोपहर बाद कुछ पंपों पर पेट्रोल खत्म होने के बाद अन्य पंपों पर वाहनों की कतारें बढऩे लगी। रात तक शहर के 95 पंपों में से 30 से ज्यादा पंपों पर स्टॉक समाप्त हो गया था। धीरे-धीरे संकट बढऩे लगा। इसे देख प्रशासन ने लोगों से अपील की, घबराएं नहीं, किसी तरह की कमी नहीं आने दी जाएगी। यदि समस्या का हल सोमवार को नहीं निकाला गया तो, शाम तक स्थिति बिगड़ सकती है। वहीं टैंकर संचालकों ने मांगलिया डिपो पर मोर्चा संभालते हुए सुबह से ही पेट्रोल डीजल के टैंकर्स को डिपो में नहीं घुसने दिया। इससे रविवार को दिनभर आपूर्ति प्रभावित रही।

ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें

बताया जा रहा है, सोमवार को सरकार ने हस्तक्षेप कर आपूर्ति बहाल नहीं की तो शाम तक मुश्किल हो सकती है। फिलहाल सोमवार तक का तो स्टॉक है, लेकिन यदि पंपों पर भरवाने वालों की होड़ लग गई और स्टॉक होने लगा तो मौजूदा स्टॉक भी समाप्त हो जाएगा। इंदौर पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन के राजेन्द्र वासू का कहना है, पंपों पर पर्याप्त मात्रा में पेट्रोल डीजल है। लोग जरूरत के अनुसार लेंगे तो दो-तीन दिन दिक्कत नहीं आएगी। प्रशासन से टैंकर्स के लिए सुरक्षा मांगी है। साथ ही कंपनियों से खुद की परिवहन व्यवस्था से माल पहुंचानें के लिए आग्रह किया गया है। आयोटा के राजेन्द्र त्रेहान का कहना है, सरकार द्वारा किसी तरह की चर्चा से इंकार करने के कारण स्थिति बिगड़ी है। आजीवन टैक्स का मामला महत्वपूर्ण है। 10 तक यदि कोई निर्णय नहीं होगा तो मुश्किल आएगी। अभी तो पेट्रोल डीजल की आपूर्ति ही प्रभावित हो रही हैं। इसके बाद आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति भी प्रभावित होगी। तेल कपंनी के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि दो दिनोंं से डिपो का कामकाज तो चालू है, लेकिन सप्लाय पूरी तरह बंद है। हालांकि पंप वाले तीन दिनों का स्टॉक मेंटेन करके चलते हैं इसलिए हड़ताल लंबी चलने पर आगे परेशानी हो सकती है।

ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें

डिपो पर डटे रहे चालक

इस हड़ताल में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड, भारत पेट्रोलिम कॉरपोरेशन लिमिटेड के साथ नाइरा एनर्जी से जुड़े करीब 800 से अधिक टैंकर मालिक भाग ले रहे हैं। रविवार का दिन होने के बावजूद मांगलिया के चारों तेल डिपो चालू थे, लेकिन एक भी टैंकर वाले ने डिपो से माल नहीं भरा। दिनभर टैंकर मालिकों के साथ टैंकर चालक भी डिपो पर डटे रहे। हड़ताल के चलते किसी अनहोनी से निपटने के लिए मांगलिया पुलिस मौजूद रही।

ट्रांसपोर्ट-टैंकर चालकों की दूसरे दिन भी हड़ताल, शहर में बढऩे लगी पेट्रोल पंपों पर लाइनें

सरकार टैक्स की अनिवार्यता वापस ले लें

टैंकर मालिक श्रवण जैन ने बताया कि टैंकरों के संचालन में पहले ही कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उस पर सरकार ने एक मुश्त लाइफ टाइम टैक्स भरने का प्रावधान करके टैंकर संचालन में मुश्किले बढ़पा दी है। वहीं डीजल पर वेट टेक्स की वृद्धि कर इस व्यवसाय की कमर ही तोड़ दी हैं।

सोमवार को होगी परेशानी

पेट्रोल-डीजल को लेकर देवास में किसी तरह की परेशानी नहीं आई। पंप संचालकों के पास स्टॉक होने के चलते शनिवार को कोई दिक्कत नहीं हुई। पंप संचालकों ने कहा कि सोमवार को सुबह पता चलेगा कि क्या स्थिति होती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned