VIDEO : ट्विंकल हत्याकांड में भाजपा के पूर्व विधायक को आरोपित बनाने की मांग को लेकर परिजन का धरना

VIDEO : ट्विंकल हत्याकांड में भाजपा के पूर्व विधायक को आरोपित बनाने की मांग को लेकर परिजन का धरना

Hussain Ali | Publish: Feb, 02 2019 01:58:51 PM (IST) | Updated: Feb, 02 2019 01:58:52 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

ट्विंकल हत्याकांड में भाजपा के पूर्व विधायक को आरोपित बनाने की मांग को लेकर परिजन का धरना

इंदौर. ट्विंकल डागरे की हत्या करने के मामले में आरोपित बनाए गए भाजपा नेता जगदीश करोतिया को संरक्षण देने का आरोप पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता पर लग रहा है। ट्ंिवकल के परिजन लगातार सुदर्शन को आरोपित बनाने की मांग कर रहे हैं। सुदर्शन को आरोपित बनाने व अन्य मांगों को लेकर आज परिजन रीगल तिराहा स्थित गांधी प्रतिमा पर धरना दिया और शाम को कैंडल मार्च निकालेंगे।

ट्विंकल के पिता संजय डागरे का कहना है कि आरोपित जगदीश करोतिया, उसके बेटे विनय करोतिया, अजय करोतिया, विजय करोतिया को पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता ने संरक्षण दे रखा था। वे उनके लिए डीआईजी से मिलने भी गए थे। इसके अलावा मैं अपनी पत्नी रीटा के साथ जब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इंदौर एयरपोर्ट पर आवेदन देने गया था, उस समय पूर्व विधायक ने उन्हें आवेदन देने से रोका था। संजय ने बताया कि गुप्ता ने एयरपोर्ट पर मेरा हाथ पकडक़र खींच लिया था और दूर ले जाकर कहा था कि यदि इस मामले में मेरा नाम आया तो तुझे बर्बाद कर दूंगा। इस बात की जानकारी मैंने सभी पुलिस अधिकारियों को दी थी। ऐसा ही घटनाक्रम भोपाल में भी हुआ था। जब हम सीएम से मिलने गए थे। वहां भी भाजपा नेताओं ने हम पर दबाव बनाया था। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हमसे एक भी बार नहीं मिले, जिसके चलते हम उनका भी विरोध इस धरने के दौरान कर रहे हैं। संजय ने बताया कि शाम को शहर के आम लोगों के साथ मिलकर हम कैंडल मार्च निकालेंगे और ट्ंिवकल के कातिलों को फांसी की सजा की मांग करेंगे। उनका कहना हेै कि पुलिस को सुदर्शन को भी आरोपितों को संरक्षण देने के मामले में आरोपित बनाना चाहिए।

सीएम कमल नाथ ने दिए हैं जांच के आदेश

गौरतलब है कि इस मामले में सीएम कमलनाथ ने इंदौर आईजी वरुण कपूर को इस मामले की जांच करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि पुलिस पता लगाए कि क्या वजह है जो ट्विंकल के परिवार के लगातार गुहार लगाने के बावजूद 2 साल तक इस मामले का ख़ुलासा नहीं हो पाया। किसके दबाव में अभी तक इस हत्याकांड की ठीक से जांच नहीं की गई। एक बेटी को न्याय नहीं मिला? आरोपियों को किसका संरक्षण रहा? कौन- कौन अधिकारी इस केस की जांच से जुड़े रहे और किसने इस हत्याकांड को उजागर करने में लापरवाही बरती? कौन-कौन इसके दोषी हैं, उन पर कड़ी कार्रवाई हो? उन्हें बख्शा नहीं जाए, क्या कोई राजनीतिक संरक्षण इस केस को लेकर था, उसका भी ख़ुलासा किया जाए। इसके बाद से ही एडीजी इस मामले में जांच कर रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned