विधायक के भाई की बस को बचाने के लिए बीच चौराहे महिला पर टूट पड़े पुलिसवाले, फिर यह हुआ...

टक्कर की शिकायत पर कार्रवाई नहीं करने पर आपत्ति ली तो पहले पति को पीटा, बचाने आई पत्नी को बालों से पकड़कर मारा, लगे पुलिस मुर्दाबाद के नारे, एएसआई सहित दो लाइन अटैच

इंदौर. सदरबाजार पुलिस की अमानवती सोमवार शाम फिर सामने आई। स्कूटर से जा रहे दंपती को विधायक संजय शुक्ला के भाई गोलू शुक्ला की बस ने टक्कर मारकर गिरा दिया। दंपती ने चेकिंग कर रही पुलिस को शिकायत की लेकिन कार्रवाई करने के बजाए बस को जाने दिया। आपत्ति लेने पर पुलिसकर्मियों ने अपनी पूरी ताकत दिखाकर पति की पिटाई शुरू कर दी, पत्नी बचाने आए तो बाल पकड़कर पीटा, गिराकर लातों से मारा। लोगों ने पुलिस के खिलाफ हंगामा करते हुए मुर्दाबाद के नारे लगे।

यहीं नहीं हंगामा बढ़ा तो पुलिसकर्मी पति को ऑटो रिक्शा में बैठाकर थाने के लिए निकले, रिक्शा में जमकर पीटा। थाने की हवालात में लाकर डंडे व लातों से मारा। जब हंगामा ज्यादा बढ़ गया तो एएसआई सहित दो को लाइन अटैच कर दिया। घटना सोमवार रात करीब 8 बजे की है। पोलोग्राउंड चौराहे पर प्रतिदिन ही सदरबाजार पुलिस बैरिकेट्स लगाकर चेकिंग करती है। निजी कंपनी में काम करने वाले सुदीप बंसल व उनकी पत्नी शोभा बंसल स्कूटर से संगम नगर स्थित घर जा रहा थे। बंसल दंपती का आरोप है कि वीआइपी रोड पर तेज गति से आ रही बस ने उन्हें कट व टक्कर मारी जिससे गिर गए। अन्य लोगों को भी बस ने कट मारी।

दंपती का आरोप है कि आगे जाकर उन्होंने चेकिंग के लिए पुलिसकर्मियों को बस पर कार्रवाई के लिए कहा। बेरिकेड्स पर बस रुकी भी, बस पर बाणेश्वरी व गोलू शुक्ला लिखा था। पुलिस ने रोकने के बजाए उन्हें हाथ दिखाकर जाने का इशारा कर दिया। इस पर दंपती ने आपत्ति ली, उनका कहना था कि हम शिकायत कर रहे है फिर भी बस को नहीं रोक रहे तो पुलिसकर्मी अभद्रता करने लगे। बोले नहीं रोकेंगे जो करना है कर लो। बसंल दंपती का कहना था कि रसूखदारों की बस होने से पुलिस ने नहीं रोकी और आपत्ति लेने पर सुदीप से मारपीट शुरू कर दी। लात से पीटा, थप्पड़ मारे। पत्नी शोभा बचाने गई तो पुलिसकर्मी उस पर पिल पड़े। अपशब्द कहें और बाल पकड़कर पीटा। गौरतलब है कि गोलू शुक्ला भाजपा नेता है और कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला के चचेरे भाई है। दो दिन पहले इनके एक और चचेरे भाई कमल शुक्ला ने रिक्शा चालक पर गोली चलाकर सनसनी फैलाई थी।
बीच रास्ते हुए मारपीट के दौरान वहां अन्य लोग भी जमा हो गए।

दंपती को इस तरह मारने पर आम लोगों ने भी आपत्ति ली। हंगामा होता देख पुलिसकर्मी सुदीप को ऑटो रिक्शा में बैठाकर सदरबाजार थाने ले गए। इस बीच पत्नी सड़क पर बैटकर विलाप करती रही तो लोगों का आक्रोश भी पुलिस को लेकर फूट पड़ा। पुलिस मुर्दाबाद के नारे लगे। हंगामे के दौरान कांग्रेस नेता सर्वेश तिवारी भी वहां पहुंच गए और कार्रवाई की मांग की। सदरबाजार टीआई अजय वर्मा मौके पर पहुंचे तो लोगों ने उन्हें भी खरीखोटी सुनाई और नारे लगाए। इधर, थाने में भी सुदीप से मारपीट की गई। सुदीप का आरोप था कि पुलिसकर्मी यादव व भदौरिया ने रास्ते भर पीटा, थाने की हवालात में बंद कर दिया और यहां भी डंडे व लातों से मारा जिससे मुंह सूज गया। बाद में अन्य लोगों ने समर्थन किया तो पुलिसकर्मी धमकाने लगे, बोले- हम सस्पैंड हो जाएंगे लेकिन तुम्हें नहीं छोड़ेंगे। टीआई को आने दे, उसके बाद तुझे मार डालेंगे।

लोगों ने पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की। बाद में सीएसपी शेषनारायण तिवारी व अन्य अफसर भी मौके पर पहुंचे और लोगों को शांत किया। सीएसपी तिवारी के मुताबिक, एएसआई सुरेश यादव व प्रधान आरक्षक सुरेश भदौरिया को लाइन अटैचकर दिया है। एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र के मुताबिक, दोनों पर एसपी आगे कार्रवाई कर रहे है।

प्रमोद मिश्रा
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned