script'Unfinished' hallmark on gold | मध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना | Patrika News

मध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना

- सोने पर 'अधूरा' हॉलमार्क : हॉलमार्क सेंटर की कमी के चलते सभी जिलों में अनिवार्य नहीं हो सकी केंद्र सरकार की योजना

- इंदौर में करीब 1500 ज्वेलर्स में से 406 ने लिया भारतीय मानक ब्यूरो का लाइसेंस

 

इंदौर

Published: January 23, 2022 11:27:12 am

विकास मिश्रा, इंदौर

सोने की शुद्धता और इसके कारोबार की विश्वसनीयता मजबूत करने की व्यवस्था करीब सात माह बाद भी प्रदेश में साकार नहीं हो सकी है। इसके पीछे हॉलमार्किंग सेंटरों का अभाव कारण है। केंद्र ने एक जुलाई 2021 से पूरे देश में स्वर्ण आभूषणों के लिए हॉलमार्क अनिवार्य किया था। प्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में हॉलमार्क के स्वर्ण आभूषण मिल रहे हैं, बाकी 44 जिलों में हॉलमार्किंग सेंटर ही नहीं हैं। हालांकि ऐसा नहीं है कि इन 44 जिलों में बिक रहे सोने के आभूषण शुद्ध सोने के नहीं हैं, बस उन पर सरकार की 'विश्वसनीयता' की सील नहीं है। कारोबारियों को उम्मीद है कि 6 महीने में अधिकांश जिलों में हॉलमार्किंग सेंटर शुरू हो जाएंगे। प्रदेश में 23 हॉलमार्किंग सेंटर हैं, जहां सोने की शुद्धता परखकर उसके खरा होने की सील लगाई जा रही है।
मध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना
मध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना
इंदौर में 1500 दुकान, 406 लाइसेंस, 4 सेंटर

इंदौर में सोने-चांदी का कारोबार करने वाले बड़े-छोटे करीब 1500 ज्वेलर्स हैं। श्रीराम हॉलमार्किंग सेंटर के प्रमुख संजय मांडोत के मुताबिक, शहर में 406 ज्वेलर्स ने ही भारतीय मानक ब्यूरो (बीआइएस) का लाइसेंस लिया है। यहां चार हॉलमार्किंग सेंटर हैं, जिनसे हर दिन करीब 2000 स्वर्ण आभूषणों पर हॉलमार्किंग की जा रही है। प्रदेश में लाइसेंस लेने वालों की संख्या 3085 है।
इन जिलों में हैं हॉलमार्किंग सेंटर

ज्वेलर्स डेवलपमेंट वेलफेयर एसोसिएशन मप्र के सचिव संतोष सराफ ने बताया, मप्र में इंदौर, भोपाल, रतलाम, जबलपुर, ग्वालियर, सतना, देवास, रीवा, मुरैना, उज्जैन आदि जगह 23 हॉलमार्किंग सेंटर हैं। इनके आसपास के जिले भी लाइसेंस लेकर आभूषणों पर हॉलमार्क लगवा सकते हैं। बालाघाट सहित कुछ जिलों में सेंटर खोलने की तैयारी है। जहां हॉलमार्र्किंग सेंटर हैं, वहां किसी को भी बिना हॉलमार्क के आभूषण बेचने की अनुमति नहीं है। ऐसा करने वालों पर सख्त कार्रवाई के नियम हैं।
एक आभूषण पर 41.30 रुपए का खर्च

इंदौर सराफा एसोसिएशन के पूर्व उपाध्यक्ष बसंत सोनी ने बताया, हॉलमार्किंग सेंटर शुरू करने में करीब एक करोड़ रुपए का खर्च आता है। एक आभूषण पर हॉलमार्क लगवाने पर ज्वेलर्स को जीएसटी सहित 41 रुपए 30 पैसे का खर्च आता है। आभूषण एक ग्राम का हो या एक किलो का, हॉलमार्क शुल्क इतना ही लगता है। सराफा व्यवसायी पुरुषोत्तम शर्मा ने बताया, देश में 726 में से 256 जिलों में ही हॉलमार्क की व्यवस्था अनिवार्य हो सकी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.