बेटी की ख्वाहिश के लिए 21 बेटियों के करवाएंगे फेरे

Arjun Richhariya

Publish: Oct, 13 2017 11:50:31 AM (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
बेटी की ख्वाहिश के लिए 21 बेटियों के करवाएंगे फेरे

सभी युगलों को गृहस्थी के सामान का उपहार भी देंगे

इंदौर. अमेरिका में बसी बेटी की ख्वाहिश पर 17 नवंबर को शहर की गुप्ता दंपती अनूठे सामूहिक विवाह आयोजित करने जा रहा है। अपनी बेटी के विवाह के साथ ही 21 गरीब परिवार की बेटियों का सामूहिक विवाह भी उसी दिन एक ही पंडाल में होगा। आयोजन का संपूर्ण खर्च उठाने के साथ ही सभी नव युगलों को गृहस्थी चलाने के लिए उपहार भी दिए जाएंगे।

शहर के उद्योगपति सुनील गुप्ता और उनकी पत्नी डॉ. दिव्या गुप्ता की बेटी महिमा डेली कॉलेज से पास होने के बाद पढ़ाई के लिए अमेरिका जाकर बस गईं। वहां इंजीनियरिंग के बाद पीएचडी भी की और फिलहाल न्यूक्लियर साइंटिस्ट हैं। परिवार ने उनकी शादी तय की, तो महिमा ने माता-पिता के समक्ष एक शर्त रखते हुए कहा, ‘मेरी खुशी के लिए वे कोई ऐसी मिसाल पेश करें, जिससे समाज के उस वर्ग के चेहरों पर खुशियां दमक उठे, जो इनसे वंचित हो और उसे जीवन भर याद रहे।’ बेटी की ख्वाहिश पूरी करने के लिए गुप्ता दंपती ने निर्णय लिया कि महिमा के साथ उसी पंडाल में २१ अन्य बेटियों का विवाह भी होगा। आयोजन में 21 पंडित, 21 मंडप में प्रत्येक युगल का वैदिक मंत्रोच्चार या उस युगल की सामाजिक परंपरा के अनुसार विवाह करवाएंगे।

अनूठी शादी के लिए जिला वैश्य महासम्मेलन के संरक्षक और उद्योगपति दिनेश मित्तल और सामूहिक विवाह करवा चुके राजेश कुंजीलाल गोयल तैयारियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। विवाह बॉम्बे हॉस्पिटल के पास ग्रेंड ओमनी होटल पर होगा। अभी तक 15 जोड़े हो चुके हैं। शादी में आने वाले मेहमानों के साथ ही विवाह प्रसंगों के लिए सभी व्यवस्थाएं उसी तरह हो रही है, जैसे पारिवारिक शादियों में होती है। वैवाहिक जोड़ों के लिए जाति का कोई बंधन नहीं है।

दूसरी बेटी भी है अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी
गुप्ता दंपती की दूसरी बेटी भी इस विवाह में उपस्थित रहेंगी। वे भी डेली कॉलेज में पढ़ाई पूरी करने के बाद अमेरिका में उच्च शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। वह स्कवॉश की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रही हैं और उन्हें मप्र सरकार से एकलव्य अवार्ड भी मिल चुका है। गुप्ता दंपती का कहना है, विवाह समारोह में विभिन्न समाजों के चुनिंदा मेहमानों को न्यौता दिया जाएगा, जो शादी में आने के बाद अपनी सोच और नजरिए में बदलाव लाएंगे। इससे हमारी इस शुरुआत को हौंसला और समर्थन मिल सकेगा।

 

Ad Block is Banned