बारिश होते ही 10 मिनट में ढक जाएगा मैदान

बारिश होते ही 10 मिनट में ढक जाएगा मैदान
cricket match

Kamal Singh | Updated: 29 Sep 2016, 08:36:00 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

- कानपुर में घटना से सबक लेते हुए एमपीसीए ने बनाया विशेष प्लान - प्रदेश के सभी संभागों से विशेषज्ञ ग्राउंड स्टॉफ बुलाया, होगी रिहर्सल



इंदौर. भारत और न्यूजीलैंड के बीच 8 से 12 अक्टूबर तक होलकर स्टेडियम में होने वाले टेस्ट मैच को लेकर मप्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमपीसीए) हर स्तर पर पुख्ता तैयारी कर रहा है। इस सीरीज के कानपुर में खेले गए पहले टेस्ट मैच में बारिश से हुई परेशानी को देखते हुए एमपीसीए ने इंदौर टेस्ट मैच के लिए विशेष प्लान बनाया है। पूरे मैदान को ढकने के लिए कवर बुलवा लिए हैं और इसकी योजना भी बन चुकी है कि बारिश आते ही कैसे इनका उपयोग किया जाएगा। पिच ढकने के लिए सफेद रंग के विशेष कवर बुलाए गए हैं जबकि मैदान के अन्य हिस्सों को नीले रंग के कवर से ढका जाएगा। कौन सी टीम पहले दौड़ेगी, उसके बाद कौन सी टीम जाएगी, यह सब कुछ प्लॉन कर दिया गया है। चीफ पिच क्यूरेटर समंदर सिंह चौहान के निर्देशन में यह टीमें काम करेंगी। जिम्मेदारी संभालने वालों के लिए बकायदा नक्शा बनाया गया है कि कैसे मैदान कवर किया जाएगा। सबसे पहले गेल पैवेलियन की ओर से कवर लाए जाएंगे और उसके बाद अलग-अलग दिशा से कवर मैदान तक पहुंचाए जाएंगे। एमपीसीए ने इस प्लान के लिए सभी संभागों में मौजूद ट्रेंड ग्राउंड स्टाफ को मैच के दौरान इंदौर बुलाया है।

कानपुर में हुई थी फजीहत

कानुपर में हुए पहले टेस्ट के दौरान बारिश आने पर वहां निर्धारित समय में मैदान पर कवर नहीं आ सके थे, जिसके कारण मैच काफी देर तक तक प्रभावित रहा था। उसी को ध्यान में रखते हुए इंदौर में यह प्रबंध किए गए हंै, हालांकि मौसम विभाग के मुताबिक इंदौर में मैच के दौरान बारिश की संभावना कम ही है।

फ्लड लाइट की टेस्टिंग
टेस्ट मैच के दौरान यदि मौसम खराब होता है और रोशनी कम होती है तो फ्लड लाइट की जरूरत होगी। इसकी तैयारी भीे एमपीसीए ने कर ली है। गुरुवार शाम को फ्लड लाइट की भी टेस्टिंग की गई।

बारिश शुरू होते ही

2.5 मिनट में पिच और उसके आसपास का हिस्सा कवर होगा
10 मिनट में पूरा मैदान ढक दिया जाएगा

50 लोगों की 20 टीमें बनाई हैं जो कवर को बाउंड्री से मैदान तक लाएंगी
20 नए कवर बुलाए हैं एक ही आकार के

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned