शहर की टीचर ने विदेशियों को सिखाया योग, अब सैकड़ों की संख्या में शिष्य, वे भी देेने लगे दूसरों को ट्रेनिंग

शहर की टीचर ने विदेशियों को सिखाया योग, अब सैकड़ों की संख्या में शिष्य, वे भी देेने लगे दूसरों को ट्रेनिंग

Arjun Richhariya | Publish: Jan, 14 2018 03:37:27 PM (IST) | Updated: Jan, 14 2018 03:38:32 PM (IST) Indore, Madhya Pradesh, India

सिंगापुर में जगा रहीं योग की ‘चेतना’

भूपेंद्र सिंह@ इंदौर. भारत की देन योग को पूरी दुनिया ने स्वीकार कर लिया है। विदेशों में इसे जानने-समझने को लेकर लोगों में बहुत उत्सुकता है। इसका श्रेय उन शिक्षकों को जाता है, जो विदेशियों में इसके प्रति रुचि जगा रहे हैं। ऐसी ही एक शिक्षक इंदौर की हैं, जिनके सिंगापुर में बने शिष्य कमाल का योग कर रहे हैं। वहां वे सैकड़ों लोगों को योग सीखा चुकी हैं।

 

yoga

उनका नाम है चेतना जोशी। अंतरराष्ट्रीय योग एक्सपर्ट चेतना का नाम उन विशेषज्ञों में शामिल है, जो योग की सभी कलाओं में निपुण हैं। देश के तमाम हिस्सों में ट्रेनिंग कार्यक्रम चलाने वाली चेतना को विदेशों से बुलावे आ रहे हैं। ऐसे ही एक आमंत्रण पर वे सिंगापुर पहुंचीं। वहां न सिर्फ बुजुर्ग, बल्कि युवा भी योग सीखने के लिए लालायित हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि हमारे यहां योग आध्यात्म व स्वस्थ शरीर का मिश्रण है, जबकि विदेशों में इसे शारीरिक स्फूर्ति, जीवन जीने की कला का माध्यम मानकर अपनाया जा रहा है।

 

yoga

कॅरियर के बारे में भी सोच रहे लोग
चेतना बताती हैं, सिंगापुर में उन्होंने योग के प्रति लोगों में गजब का उत्साह देखा। इसमें भी ज्यादा संख्या युवाओं की है। वे जिस तरह से उन्हें योग सिखा रही हैं, वैसे ही वे युवा दूसरों को इसकी ट्रेनिंग देने लगे हैं। उनका कहना है कि इससे शरीर स्वस्थ रहेगा और हम लोग इंस्टिट्यूट शुरू कर कॅरियर भी बना सकेंगे।

300 लोग करते हैं एक साथ योग
पिछले दिनों सिंगापुर की ट्रस्ट योगा कंपनी ने चेतना को सिंगापुर बुलाया। उन्होंने 15 दिन तक करीब 300 लोगों को योग की शिक्षा दी। अष्टांग, चक्रास और हथा जैसे भारतीय योग सिंगापुरवासियों ने दिलचस्पी के साथ सीखे। चेतना ने बताया कि सिंगापुर के लोगों ने भारतीय योग व संस्कृति में काफी रुझान दिखाया। वहां का माहौल देखकर कह सकते हैं कि देश के योग टीचरों के लिए अब विदेशों में कॅरियर के रास्ते खुल रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned