युवती पुलिस से बोली कई बार हुआ बलात्कार, कोर्ट में पलटी, अब खाएगी जेल की हवा

बलात्कार जैसे गंभीर मामले में पुलिस को दिए बयानों से पलटी पीडि़ता

By: हुसैन अली

Published: 19 Jan 2019, 11:00 AM IST

इंदौर. बलात्कार जैसे गंभीर मामले में पुलिस को दिए बयानों से पलटी पीडि़ता के खिलाफ कोर्ट ने 3 माह की सजा और 500 रुपए का अर्थदंड का फैसला सुनाया है। संभवत: इंदौर जिला कोर्ट में यह पहला मामला है, जब बलात्कार के मामले में अपने बयान से पलटने (पक्षद्रोही) पीडि़ता के खिलाफ सजा सुनाई गई है। करीब एक साल तक जेल में रहने के बाद बाद कोर्ट ने बलात्कार के दो आरोपियों को दिसंबर 2018 में दोष मुक्त किया था। बाद में शासन के वकील ने आवेदन देकर बयान से पलटने वाली पीडि़ता के खिलाफ कार्रवाई के लिए आवेदन दिया।
इस पर सुनवाई के बाद शुक्रवार को अपर सत्र न्यायाधीश बीके द्विवेदी ने पीडि़ता को सीआरपीसी की धारा 34 के तहत सजा सुनाई है। विशेष लोक अभियोजक विशाल श्रीवास्तव ने बताया, गांधीनगर क्षेत्र निवासी 27 वर्षीय पीडि़ता ने दिसंबर 2017 में तेजाजी नगर थाने में सतीश राठौर और मदुर के खिलाफ रिपोर्ट लिखाई थी। उसका आरोप था कि दोनों से उसके साथ बलात्कार कर उसका वीडियो भी बना लिया, जिसे सार्वजनिक करने की धमकी देकर कई बार बलात्कार किया। घटना के बाद पुलिस ने आरोपियों को पकडक़र जेल भेजा और चालान पेश किया था। 13 अगस्त 2018 को कोर्ट में पीडि़ता ने बयान देते हुए घटना होने से ही इनकार कर दिया, उल्टा पुलिस पर झूठा केस बनाने का आरोप लगा दिया। गवाहों के बयान और सबूतों के आधार पर कोर्ट ने 11 दिसंबर 2018 को आरोपियों को बरी कर दिया था।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned