एयरसेल के दिवालिया घोषित होने से वोडफोन को मिले 10 लाख नए ग्राहक

कंपनी के इस हालत के बाद से अब एयरसेल के ग्राहक दूसरी आॅपरेटर्स के तरफ जाने लगे हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा वाेडाफाेन काे मिल रहा है।

By: manish ranjan

Published: 14 Mar 2018, 12:16 PM IST

नर्इ दिल्ली। रिलायंस जियो के धमाकेदार एंट्री के बाद से ही देश की दूसरी टेलिकाॅम कंपनियों की खटिया खड़ी होने लगी है। आलम तो ये है कि एक टेलिकाॅम कंपनी एयरसेल दिवालिया घोषित किए जाने के लिए आवेदन तक कर दिया है। इसके बाद से इस कंपनी के उपभाेक्ताआें के लिए भी बड़ी परेशानियों का समना करना पड़ रहा है। कंपनी के इस हालत के बाद से अब एयरसेल के ग्राहक दूसरी आॅपरेटर्स के तरफ जाने लगे हैं। अापको बता दें कि, बीते 28 फरवरी को एयरसेल ने नेशनल कंपनी लाॅ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में दिवालिया घोषित हाेने के लिए आवेदन किया था जिसे बाद में एनसीएलटी ने मंजूरी दे दी।


वोडाफोन को सबसे ज्यादा फायदा

एयरसेल के दिवालिया घोषित हो जाने के बाद अब इस कंपनी के ग्राहक वोडाफोन के तरफ शिफ्ट हो रहे हैं। देश की बड़ी टेलिकाॅम कंपनियों में से एक वोडाफोन को एयरसेल से करीब 10 लाख नए ग्राहक मिले हैं। वोडफोन इंडिया ने इसके बारे में जानकारी देते हुए कहा कि, एक हफ्ते के अंदर 10 लाख से ज्यादा एयरसेल ग्राहकों ने वोडाफोन को चुना है। दरअसल एयरसेल के ग्राहक अपना नंबर बदलना नहीं चाहते है इसलिए वो दूसरे नेटवर्क पर अपना नंबर पोर्ट करा रहे है।


नहीं झेल पार्इ वित्तीय संकट

गौरतलब है कि, 30 जनवरी को एयरसेल ने गुजरात, हरियाणा, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश आैर पश्चिम यूपी में अपना आॅपरेशन बंद कर दिया था। क्योंकि ने इसके लिए कहा था कि, वो अत्याधिक प्रतिस्पर्धात्मक कारोबारी माहौल में काम नहीं कर पर रही है। दरअसल भारत के टेलिकाॅम सेक्टर में जियो की एंट्री के बाद से ही दूसरी कंपनियों के लिए चुनौती पैदा हो गर्इ हैं। हालांकि अन्य कंपनियों ने जियो को टक्कर देने की तैयारी की लेकिन एयरसेल को दिसंबर 2017 तक करीब 120 करोड़ रुपए का नुकसान हो गया। इसके पहले भी एयरसेल को एक लंबे समय तक वित्तिय संकट झेलना पड़ा था। जिसका सामना न कर पाने मे असमर्थ एयरसेल ने एनसीएलटी में दिवालिया घोषित किए जाने की अर्जी दे दी।

Show More
manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned