6 लाख करोड़ रुपए की होगी 5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी, सस्ती मिलेगी इंटरनेट सेवा

6 लाख करोड़ रुपए की होगी 5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी, सस्ती मिलेगी इंटरनेट सेवा

Saurabh Sharma | Updated: 14 Jun 2019, 01:57:39 PM (IST) इंडस्‍ट्री

  • साल के अंत तक होगी 5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी
  • डीसीसी ने ट्राई से पिछली नीलामी के विफल होने का स्पष्टीकरण मांगा
  • 8,600 मेगाहट्र्ज के मोबाइल एयरवेज की नीलामी योजना

नई दिल्ली। देश में 5जी स्पेक्ट्रम को लागू करने की कोशिशें पूरी तरह की जा रही है। सरकार इस बात को भी सुनिश्चित करने में जुटी हुई है कि अब तक की सबसे बड़ी स्पेक्ट्रम नीलामी में सभी टेलीकाॅम कंपनियां शामिल हों। खास बात ये है कि स्पेक्ट्रम नीलामी की अनुमानित वैल्यू 6 लाख करोड़ रुपए रखी गई है। जिसके बाद देश में सस्ते दामों में 5जी सर्विस का आनंद ले सकेंगे। साथ ही शहरों के अलावा गांवों में भी फाइबर टू द होम इंटरनेट को पहुंचाना भी शामिल है।

यह भी पढ़ेंः- याचिकाकर्ताओं ने इंडियाबुल्स के खिलाफ SC से वापस ली याचिका, बड़ी साजिश की आशंका

साल के आखिर में होगी नीलामी
डिजिटल कम्युनिकेशंस कमीशन ( DCC ) के अनुसार इस साल के आखिरी महीनों में 5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी की जाएगी। सरकार करीब 8,600 मेगाहट्र्ज के मोबाइल एयरवेज की नीलामी करने की योजना पर काम कर रही है। इसमें मौजूदा स्पेक्ट्रम भी शामिल होंगे। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अगर सभी स्पेक्ट्रम को रिजर्व दामों में नीलाम किया जाता है तो सरकार को कम से कम 5.8 लाख करोड़ रुपए की कमाई होगी। इसके विपरीत सरकार का मकसद ज्यादा कमाई करना नहीं बल्कि टेलीकॉम सर्विस को बेहतर करना है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol-Diesel Price: 16 दिनों में पेट्रोल 1.68 रुपए और डीजल 2.52 रुपए प्रति लीटर सस्ता

DCC ने मांगा TRAI स्पष्टीकरण
वहीं कमीशन ने ट्राई से पिछले चरणों के स्पेक्ट्रम बिक्री के कमजोर रहने के कारणों की जानकारी मांगी है। इसके अलावा ट्राई ने नए चरण की नीलामी के लिए पहले से ही रिजर्व कीमतों का सुझाव दे दिाया है। इसके अलावा टेलीकॉम मिनिस्ट्री इस बात पर भी गौर रही है कि ट्राई की सभी सिफारिशें पीएम मोदी के 'सभी के लिए ब्रॉडबैंड' विजन पर खरी उतर रही हैै या नहीं।

यह भी पढ़ेंः- रिलायंस जियो की बादशाहत से लेकर जेट पर बड़ी कार्रवाई तक, सब जानें, बस एक क्लिक में

सिर्फ शहर ही नहीं ग्रामीण इलाकों में भी हो इंटरनेट
मंत्रालय का एक मकसद यह भी है कि 5 जी का इस्तेमाल सिर्फ शहरों, स्मार्ट शहरों, या फिर कारों तक ही सीमित होकर ना रह जाए। इसकी उतनी ही सुविधा ग्रामीण इलाकों तक भी पहुंचे। ग्रामीण इलाकों के स्वास्थ्य सेवाओं में इसका उपयोग हो। वहीं शैक्षणिक संस्थानों में भी 5 जी की सेवा पहुंचे। ताकि गांवों के युवा इंटरनेट के साथ रूबरू हो सके।

यह भी पढ़ेंः- शुरुआती मजबूती के बाद शेयर बाजार में गिरावट, 130 अंक लुढ़का सेंसेक्स, निफ्टी 11,900 अंकों से नीचे

हुवावे पर संशय बरकरार
वहीं दूसरी ओर सरकार को अभी भी इस बात का स्पष्टीकरण नहीं मिला है कि नीलामी प्रक्रिया में चीनी कंपनी हुवावे शामिल होगी या नहीं। इसके अलावा सरकार अभी तक टेस्टिंग फेज के लिए रेगुलर टेलिकॉम ऑपरेटर्स जैसे रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया के अलावा स्पेक्ट्रम नीलामी में एरिक्सन, नोकिया और सैमसंग जैसी कंपनियों को हिस्सेदाार बनाने में कामयाब नहीं हो सकी है।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned