तीन से चार माह में दोगुनी हुर्इ फूड डिलवरी एग्जीक्यूटिव्स की सैलरी

तीन से चार माह में दोगुनी हुर्इ फूड डिलवरी एग्जीक्यूटिव्स की सैलरी

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 26 Jul 2018, 03:53:06 PM (IST) इंडस्‍ट्री

जोमैटो, स्विगी आैर उबरइट्स जैसे फूड एग्रीगेटर प्लेटफाॅर्म्स पर डिलीवरी एग्जिक्यूटिव की मांग भी तेजी से बढ़ती जा रही है।

नर्इ दिल्ली। दुनिया समेत भारत में भी होम डिलीवरी का प्रचलन काफी तेजी से बढ़ रहा है। भारत के शहरी इलाकों में फूड डिलीवरी सेगमेंट में भी अब काफी तेजी से ग्रो कर रहा है। अब सभी ग्राहकों कम से कम समय में फूड डिलीवरी करने को लेकर आॅनलाइन फूड एेप में होड़ मची हुर्इ है। एेसे में जोमैटो, स्विगी आैर उबरइट्स जैसे फूड एग्रीगेटर प्लेटफाॅर्म्स पर डिलीवरी एग्जिक्यूटिव की मांग भी तेजी से बढ़ती जा रही है। पहले के मुकाबले इनकी कमार्इ भी दोगुनी बढ़कर 40 से 50 हजार रुपये तक हो गर्इ है। तो कि पहले महज 18 से 20 हजार रुपये थी। सभी फूड एग्रीगेटर अपने डिलीवरी बाॅय को दिए जाने वाले पेमेंट में 60 फीसदी तक बढ़ा दिया है।


60 ये 120 फीसदी तक बढ़ी सैलरी
दरअसल, एक अंग्रेजी वेबसाइट ने जब करीब एक दर्जन से भी अधिक डिलीवरी एग्जिक्यूटिव्स से बात की तो पता चला की उनके पेमेंट में पिछले तीन से चार माह में 60 से 120 फीसदी तक बढ़ोतरी हुर्इ है। यही नहीं, पीक आवर आैर बारिश के समय फूड डिलीवरी करने पर इंसेटिव्स भी दिए जाते हैं। इसका सबसे बड़ा असर ये हुआ है कि फ्लिपकार्ट, बिगबास्केट जैसे र्इ-काॅमर्स वेबसाइट्स के डिलीवरी एग्जीक्यूटीव्स की अामदनी में बढ़ोतरी देखने को मिला है। उनको भी इन्सेंटिव्स सहित 18 से 18 हजार रुपये तक मिलने लगे हैं।


प्रति डिलीवरी इन्सेंटिव्स के साथ मिलते हैं इतने रुपये
बाजार में बढ़ते कम्प्टीशन के बाद स्विगी आैर जोमैटो जैसी दोनों एग्रीगेटर अपने डिलीवरी सिस्टम को पहले से बेहतर बनाने पर जोर दे रही है। स्विगी से जनवरी माह में करीब 30 हजार से अधिक डिलीवरी एग्जीक्यूटिव्स थे जो कि अब बढ़कर 50 हजार से उपर हो गया है। जबकि जोमैटो के डिलीवरी एग्जीक्यूटीव्स की संख्या में काफी इजाफा देखने को मिला है। यें आंकड़ा जनवरी माह के 1800 से बढ़कर 50 हजार हो गया है। इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि ये संख्या इस साल के अंत तक बढ़कर 60 फीसदी तक हो सकती है। आपको बता दें कि एक फूड डिलीवरी के एक आॅर्डर पर एग्जीक्यूटिव को इन्सेंटिव्स सहित 80 से 120 रुपये मिलते हैं जो कि पहले मात्र 40 से 45 रुपये था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned