नहीं मिला खरीदार तो बंद होगी Air India, एविएशन मिनिस्टर ने संसद में दिया बड़ा बयान

  • करीब 58 हजार करोड़ रुपए के कर्ज से दबी है Air India
  • एयर इंडिया का नहीं हो पाता Privatization ना होने होगा फैसला
  • राज्यसभा में Aviation Minister Hardeep Singh Puri ने दिया बयान

By: Saurabh Sharma

Updated: 28 Nov 2019, 08:25 AM IST

नई दिल्ली। सेंट्रल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ( Central Aviation Minister Hardeep Singh Puri ) ने संसद के उच्च सदन राज्यसभा में साफ कर दिया है कि अगर सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया का प्राइवेटाइजेशन ( Privatization of air india ) नहीं हो पाता है तो सरकार इसे पूरी तरह से बंद करने का फैसला करेगी। खास बात ये है कि एयर इंडिया ( Air India ) पर करीब 58 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। यहां तक रोजाना के संचालन में भी एयर इंडिया को घाटा ( Air India losses ) उठाना पड़ रहा है। ऑयल कंपनियों का एयर इंडिया पर 5 हजार करोड़ रुपए का कर्ज बढ़ गया है। ऐसे में विमानन मंत्री का बयान आना सरकार की मजबूरी को साफ बयां कर रहा है।

यह भी पढ़ेंः- क्या अनिल अंबानी ग्रुप की नैया पार लगाएगी यह कंपनी, 100 दिनों में 800 फीसदी तक चढ़ा शेयर

रखा जाएगा एयर इंडिया कर्मचारियों के हितों का ध्यान
वहीं दूसरी ओर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में कहा कि एअर इंडिया को लेकर एक वैकल्पिक तंत्र का गठन किया गया था। जिसकी ओर से एयर इंडिया को लेकर फैसले किए थे। जो प्रक्रिया में चल रहे हैं। जिसके बाद टेंडर भी जारी किए जाएंगे। वहीं केंद्रीस मंत्री ने कहा कि सरकार एअर इंडिया के सभी कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखेगी। एअर इंडिया के प्राइवेटाइजेशन और फिर होने की स्थिति में किसी कर्मचारी का नुकसान होने नहीं दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को बड़ा झटका, इंडिया रेटिंगस ने जीडीपी दर अनुमान घटाई

एयर इंडिया पर 58 हजार करोड़ रुपए का कर्ज
एयर इंडिया पर मौजूदा समय में 58 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा कर्ज है। पिछले दो सालों से सरकार इसके विनिवेश की प्लानिंग कर रही है। बावजूद इसके कोई भी एयर इंडिया में दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है। सरकारी विमानन कंपनी का परिचालन घाटे में बना हुआ है। अगस्त में इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने कहा था कि एयर इंडिया का बकाया ईंधन बिल 5,000 करोड़ रुपए हो गया था, जिसका लगभग भुगतान नहीं किया गया था।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned