इस कंपनी में महिलाओं के लिए बंपर नौकरी, जानिए क्या करना होगा काम

manish ranjan

Publish: Dec, 07 2017 01:53:40 (IST)

Industry
इस कंपनी में महिलाओं के लिए बंपर नौकरी, जानिए क्या करना होगा काम

जानिए कौन सी है कंपनी, क्या है योजना

नई दिल्ली। स्वीडिश फर्नीचर रिटेल कंपनी आइकिया बंपर नौकरी निकालने जा रही है। सबसे खास बात है कि कंपनी 15000 नई भर्तियों में से 7500 महिलाओं को काम पर रखेगा। दरअसल कंपनी भारत में चार नए स्टोर खोलने की योजना बना रही है। जिसके तहत ये भर्तियां की जाएंगी। कंपनी ने यह पहल अपनी ‘टैक’ योजना के तहत की है जो कि कंपनी का लायल्टी कार्यक्रम है। अभी फिलहाल भारत में इस कंपनी में करीब 400 कर्मचारी काम करते है। कंपनी ने योजना बनाई है कि 2025 तक 15,000 कर्मचारी तैनात करेगी जिनमें 50 फीसदी महिलाएं होंगी। आइकिया की हैदराबाद, मुंबई, बेंगलुरु व दिल्ली एनसीआर में चार स्टोर खोलने की योजना है और प्रत्येक स्टोर के लिए वह 500-700 कर्मचारी नियुक्त करेगी। कंपनी अनुसार वैश्विक स्तर पर वह अपने सहकर्मियों के पेंशन कोष में कुल मिलाकर लगभग 700 करोड़ रुपये का निवेश कर उन्हें प्रोत्साहित करेगी।

पेंशन के रुप में अतिरिक्त 1,50,120 रुपए देगी कंपनी

आइकिया इंडिया की मानव संसाधन प्रमुख अना कैरिन मैनसान के हवाले से कहा गया है कि आइकिया समूह भारत में इस साल अपने प्रत्येक कर्मचारी को पेंशन के रूप में अतिरिक्त 1,50,120 रुपये देगा। कंपनी ने ‘टैक’ कार्यक्रम 2013 में शुरू किया था और भारत में इस कार्यक्रम के तहत अब तक वह अपने कर्मचारियों के पेंशन कोष में कुल कुल 8.2 करोड़ रुपये से अधिक का आवंटन कर चुकी है।


महिलाओं पर 117 करोड़ का खर्च

आइकिया की परोपकारी संस्था आइकिया फाउंडेशन ने देशभर में वंचित तबके की 10 लाख महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराने व उद्यम लगाने के अवसर देने के लिए यूएनडीपी, जिनटियो और इंडिया डेवलपमेंट फाउंडेशन (आईडीएफ) के साथ साझीदारी की है। आइकिया फाउंडेशन के मुताबिक, 1.6 करोड़ यूरो (करीब 117.76 करोड़ रुपये) के बजट के साथ इस तीन साल के कार्यक्रम के जरिए कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र पर ध्यान दिया जाएगा। कंपनी के मुताबिक महिलाएं अपने बच्चों के जीवन में बदलाव लाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण उत्प्रेरक बन सकती हैं। महिलाओं को सशक्त बनाकर हम बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा और भविष्य में सुधार ला सकते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned