ब्लाॅकचेन में दुनिया का अगुआ बन सकता है भारत, आर्इटी इंडस्ट्री में अाएंगे बड़े बदलाव

ब्लाॅकचेन में दुनिया का अगुआ बन सकता है भारत, आर्इटी इंडस्ट्री में अाएंगे बड़े बदलाव

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Dec, 09 2018 08:46:00 AM (IST) इंडस्‍ट्री

टैपस्कॉट ने यहां केरल ब्लॉकचेन एकेडमी (केबीए) द्वारा आयोजित सम्मेलन 'ब्लॉकहैश लाइव 2018' में कहा, "जब मैं सिलिकॉन वैली में काम कर रहा था, भारत के लोगों द्वारा बनाए उत्पाद का प्रतिशत चौंकानेवाला था। यहां प्रतिभा और कौशल का निपुण पारिस्थितिकी तंत्र है।"

नर्इ दिल्ली। भारत में यह क्षमता है कि वह ब्लॉकचेन क्रांति में अगुवा बन सकता है। कनाडा के विशेषज्ञ बॉब टैपस्कॉट ने शनिवार को यहां यह बातें कही। टैपस्कॉट ने यहां केरल ब्लॉकचेन एकेडमी (केबीए) द्वारा आयोजित सम्मेलन 'ब्लॉकहैश लाइव 2018' में कहा, "जब मैं सिलिकॉन वैली में काम कर रहा था, भारत के लोगों द्वारा बनाए उत्पाद का प्रतिशत चौंकानेवाला था। यहां प्रतिभा और कौशल का निपुण पारिस्थितिकी तंत्र है।"


बड़ी अर्थव्यवस्थाएं ब्लाॅकचेन की तरफ तेजी से अग्रसर

उन्होंने कहा, "देश की प्रतिभा को देखते हुए, मैं स्पष्ट रूप से कह सकता हूं कि भारत में ब्लॉकचेन क्रांति का अगुवा बनने की क्षमता है।" इस तीन दिवसीय कार्यक्रम में केरल के साथ ही पूरे देश के लिए ब्लॉकचेन में वैश्विक कारोबार के अवसर की पेशकश की गई। टैपस्कॉट ने जोर देकर कहा, "कनाडा इस क्षेत्र की इच्छुक है, जबकि स्विटरलैंड ने क्रिप्टो में बढ़त हासिल कर ली है, लेकिन जरूरी नहीं है कि ब्लॉकचेन क्रांति में भी बढ़त हासिल कर ले। जहां तक ज्ञान, क्षमता और प्रौद्योगिकी की बात है, तो भारत अगुवा बनने की स्थिति में है।"


आर्इटी इंडस्ट्री में होगा बड़ा बदलाव

पहले भी कर्इ विशेषज्ञ यह बात कह चुके हैं कि आने वाले दिनों में ब्लाॅकचेन तकनीक के इस्तेमाल से आर्इटी इंडस्ट्री में बड़े स्तर पर अभूतपूर्व बदलाव आ सकते हैं। आर्इटी इंडस्ट्री पर इसका असर ठीक वैसे ही होगा जैसे कि करीब एक दशक पहले आेपेन सोर्स साॅफ्टवेयर ने किया। जिस प्रकार लिनक्स करीब एक दश से माॅडर्न एप्लीकेश डेवलपमेंट का मूल रहा है ब्लाॅकचेन की खास बात यह है कि काॅस्ट इफेक्टिव है जिस वजह से बेहद ही आसान तरीके से इसे लागू किया जा सकता है।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर

Ad Block is Banned