60 दिनों बाद Jet Airways के लिए उड़ान भरना हाेगा मुश्किल, कंपनी ने कर्मचारियों से कहा 25% सैलरी कटौती के लिए रहें तैयार

प्राइवेट विमान कंपनी Jet Airways की वित्तीय हालत इतनी कमजोर हो गर्इ है कि 60 दिनाें बाद कंपनी के लिए परिचालन करना भी मुश्किल हो जाएगा। इस विमान कंपनी ने कर्मचारियों से सैलरी में कटौती के लिए भी तैयार रहने को कहा है।

By: Ashutosh Verma

Published: 03 Aug 2018, 11:12 AM IST

नर्इ दिल्ली। सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया के बाद अब प्राइवेट विमान कंपनी Jet Airways की भी वित्तीय हालत खस्ता हो चुकी है। वित्तीय तौर पर कंगाल हो चुकी है जेट एयरवेज के पास अब बस 60 दिनों तक उड़ान भरने की रकम बची है। जेट एयरवेज ने अपने कर्मचारियों से साफ तौर पर कहा है कि यदि वो अपने खर्च कम करने की उपाय नहीं करती तो कंपनी के लिए 60 दिनों के बाद उड़ान भरना मुमकिन नहीं होगा। ये प्राइवेट विमान कंपनी अपनी लागत कम करने के लिए कर्मचारियों की सैलरी को घटाने की बात पर भी विचार कर रही है। इस खबर के बाद जेट एयरवेज के कर्मचारियों में खलबली मची हुर्इ है। वित्तीय तौर पर खस्ताहाली की खबर को कंपनी के दो अधिकारियों ने पुष्टि भी कर दी है। इन अधिकारियों के मुताबिक चेयरमैन नरेश अग्रवाल आैर कपंनी के टाॅप मैनेजमेंट ने कर्मचारियों को इस बात की सूचना दे दी है।


टाॅप मैनेजमेंट पर कर्मचारियों का कम हुआ भरोसा
सूत्रों के मुताबिक कंपनी के लिए 60 दिनों बाद परिचालन मुश्किल हो जाएगा आैर बचत के लिए कंपनी कर्मचारियों की सैलरी घटा सकती है, हालांकि कंपनी अपने खर्चे कम करने के लिए दूसरे उपायों के बारे में भी सोच रही है। यदि खर्च कम करने के लिए कंपनी ने काेर्इ कदम नहीं उठाया तों कंपनी के लिए दो माह बाद परिचालन करना मुश्किल हो जाएगा। सूत्र ने कर्मचारियों के बारे में बोलते हुए कहा कि इतने वर्षों से कंपनी ने उन्हें इस बाबत कोर्इ जानकरी नहीं दी एेसे में कर्मचारियों का टाॅप मैनेजमेंट पर भरोसा कम हुआ है।


25 फीसदी तक सैलरी कटौती के लिए तैयार रहें कर्मचारी
जेट एयरवेज के एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि कंपनी ने कर्मचारियों की छटनी तक शुरु कर दी है। छटनी के लिए कंपनी ने सबसे पहले शुरुअात इंजिनियरिंग डिपार्टमेंट के लोगाें से की है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी ने इंजिनियरिंग डिपार्टमेंट में दिल्ली के लिए हेड आॅफ लाइन से छुट्टी पर जाने को कहा है। इसके बाद अगला नंबर केबिन क्रू आैर ग्राउंड हैंडलिंग डिपार्टमेंट का होगा। विमान कंपनी ने अपने कर्मचारियों से साफ ताैर पर कहा है कि उन्हें 25 फीसदी तक सैलरी में कटौती काे बर्दाश्त करना पड़ सकता है। इस कदम से कंपनी को सालाना 500 करोड़ रुपये की बचत होगी।


कच्चे तेल आैर बाजार में इंडिगो के बढ़ते वर्चस्व से हुअा कंपनी को घाटा
चेयरमैन नरेश गोयल के नेतृत्व में प्रबंधन ने मुंबर्इ में कर्मचारियों से मुलाकात कर इस बात की जानकारी दी कि उनकी सैलरी में कटौती की जा सकती है। हालांकि उन्होंने ये भी बताया कि ये कटौती दो साल के लिए ही होगी आैर बाद में कर्मचारियों को रिफंड भी किया जाएगा। कंपनी ने अपनी वित्तीय हालात कमजोर होने का कारण कच्चे तेल के दाम में बढ़ोतरी आैर विमान सेवा बाजार में इंडिगो एयरलाइंस का बढ़ता वर्चस्व बताया है। बता दें बीते छह साल से कंपनी ने कोर्इ विस्तार नहीं किया है। साल 2016 आैर 2017 में कंपनी को लगातार दो साल मुनाफा तो हुआ था लेकिन वित्त वर्ष 2018 में कंपनी को 767 करोड़ रुपये का घाटा हो चुका है।

indigo jet airways india news
Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned