अब घर बैठे ही मिलेंगे पतंजलि की दन्त कांति समेत सभी प्रोडक्ट्स

अब घर बैठे ही मिलेंगे पतंजलि की दन्त कांति समेत सभी प्रोडक्ट्स

manish ranjan | Publish: Aug, 12 2018 12:13:50 PM (IST) | Updated: Aug, 12 2018 12:32:43 PM (IST) इंडस्‍ट्री

बाबा रामदेव की पतंजलि प्रोडक्ट्स अब घर बैठे खरीद सकते हैं। पतंजलि आयुर्वेद ई-कॉमर्स मार्केट में एंट्री करने वाली है। इसके लिए कंपनी ने 8 सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ गठजोड़ करने की तैयारी की है।

नई दिल्ली। बाबा रामदेव की पतंजलि प्रोडक्ट्स अब घर बैठे खरीद सकते हैं। पतंजलि आयुर्वेद ई-कॉमर्स मार्केट में एंट्री करने वाली है। इसके लिए कंपनी ने 8 सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ गठजोड़ करने की तैयारी की है। इनमें ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियां भी शामिल हैं।बाबा रामदेव के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने ट्वीट के मुताबिक कंपनी ने अब ऑनलाइन मार्केट में एंट्री की तैयारी शुरू कर दी है। दुनिया की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ जल्दी ही हम अग्रीमेंट का ऐलान करेंगे।

 

ये सब प्रोडक्ट्स मिलेंगे ऑनलाइन

पतंजलि की दन्तकांति घी और शैम्पू समेत कई प्रोडक्ट्स अब ऑनलाइन मार्केट में उपलब्ध होंगे। 'पतंजलि के उत्पादों की ऑनलाइन शॉपिंग का नया चैप्टर जल्दी ही शुरू होगा। कई ई-कॉमर्स पोर्टल्स पर इनकी उपलब्धता होगी। इससे पहले 26 दिसंबर को पतंजलि आयुर्वेद की ओर से ऐलान किया गया था कि अंतरराष्ट्रीय कंपनियों से मुकाबले के लिए उसकी निगाह डायपर सैनिटरी नैपकिन्स के मार्केट पर है।

 

ऐसे बढ़ता गया पतंजलि का मार्केट

आपको बता दें कि देश की सबसे तेजी से बढ़ रही कंपनियों में शुमार की जाने वाली पतंजलि ने फोर्ब्स मैगजीन की 2017 की सालाना लिस्ट में 19वां स्थान हासिल किया था। इससे पहले कंपनी 45वें स्थान पर रही थी। पतजंलि की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए कई मल्टीनेशनल कंपनियां भी आयुर्वेद मार्केट में आ चुकी है। लेकिन पतंजलि का जलवा अब भी बरकरार है।

2500 करोड़ का टर्नओवर
साल 2006 में पतंजलि आयुर्वेद की स्थापना हुई। मौजूदा दौर में पतंजलि आयुर्वेद आयुर्वेदिक औषधियों और विभिन्न खाद्य पदार्थों का उत्पादन करती है। भारत के साथ-साथ विदेशों में भी इसकी इकाइयां बनाने की योजना है, इस संदर्भ में नेपाल में कार्य प्रारम्भ हो चुका है। पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड पूरी तरह से स्वदेशी (भारतीय) कंपनी है। भारतीय बाज़ार में आज पतंजलि आयुर्वेद की मजबूत पकड़ है जो कि बाज़ार में मौजूद विभिन्न विदेशी कंपनियों को कड़ी टक्कर दे रही है। बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद का सालाना टर्नओवर 2500 करोड़ के आस-पास है।

Ad Block is Banned