Rail Budget 2019: 'ट्रिपल P' मॉडल से बदलेगा रेलवे का ढांचा, 50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत

Rail Budget 2019: 'ट्रिपल P' मॉडल से बदलेगा रेलवे का ढांचा, 50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत

Kaushlendra Pathak | Updated: 05 Jul 2019, 11:54:48 AM (IST) इंडस्‍ट्री

  • Rail Budget 2019: भारतीय रेलवे का होगा निजीकरण
  • भारतीय रेलवे का पब्लिक, प्राइवेट और पार्टनरशिप के जरिए होगा विकास
  • 2019 में 210 किलोमीटर मेट्रो लाइन का लक्ष्य- निर्मला सीतारमण

नई दिल्ली। मोदी सरकार 2.0 का आज पहला बजट ( budget ) पेश संसद में पेश हुआ। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitharaman ) ने लोकसभा ( loksabha ) में बजट पेश किया। सीतारमण ने भारतीय रेलवे के विकास के लिए 'ट्रिपल P' मॉडल लाने का प्लान बताया। सीतारमण ने कहा कि रेलवे के ढांचे को बदलने के लिए हमें पब्लिक, प्राइवेट और पार्टनरशिप (ट्रिपल P) मॉडल के आधार पर काम करना होगा। वित्त मंत्री के इस बयान से साफ स्पष्ट है कि सरकार भारतीय रेलवे को निजीकरण करने जा रही है।

12 साल में 50 लाख करोड़ निवेश की जरूरत

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में कहा कि भारतीय रेल ढांचे में विकास के लिए अगले 12 साल में 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत है। इसके लिए हमें 'ट्रिपल P' मॉडल पर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि रेलवे इन्फ्रा को 2018 से 2030 के बीच 50 लाख करोड़ के निवेश की आवश्यकता होगी। इसके लिए निजी भागीदारी बढ़ाई जाएगी। इस बजट में रेल और मेट्रो की 300 किलोमीटर की परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है।

केंद्रीय वित्त मंत्री ने रेलवे किराए में सुधार के लिए आदर्श किराया कानून बनाने का भी प्रस्ताव पेश किया। इस कानून के जरिए रेल यात्रियों की जरूरत, सुविधाओं और विभागीय आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए रेलवे किराया तय करेगी।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned