रूसी कंपनी ने 72,800 करोड़ रुपए में खरीदी एस्सार ऑयल

रूसी कंपनी ने 72,800 करोड़ रुपए में खरीदी एस्सार ऑयल
Essar Oil

Jamil Ahmed Khan | Updated: 15 Oct 2016, 05:37:00 PM (IST) इंडस्‍ट्री

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मौजूदगी में भारत-रूस शिखर बैठक के बाद दोनों देशों की कंपनियों के बीच सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर करने के दौरान ही इस सौदे का करार किया गया

पणजी। दुनिया की सबसे बड़ी पेट्रोलियम कंपनी रोसनेफ्ट ऑयल कंपनी के नेतृत्व में रूसी कंपनियों का कंसोर्टियम निजी क्षेत्र की दूसरी बड़ी भारतीय तेल कंपनी एस्सार ऑयल के 98 फीसदी शेयर को 10.9 अरब डॉलर (72,800 करोड़ रुपए) में खरीदने पर सहमत हो गया है जो अब तक देश का सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मौजूदगी में भारत- रूस शिखर बैठक के बाद दोनों देशों की कंपनियों के बीच सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर करने के दौरान ही इस सौदे का करार किया गया।

इसके साथ ही कंसोर्टियम वाडिनार स्थित एस्सार के बंदरगाह को 13,300 करोड़ रुपए (दो अरब डॉलर) में खरीदने पर भी सहमत हुआ है। रूसी कंपनियों के कंसोर्टियम में रोसनेफ्ट के साथ ही कमोडिटी क्षेत्र की कंपनी ट्राफिगुरा और निजी निवेश कंपनी यूनाइटेड कैपिटल पार्टनर्स शामिल है। इस करार के अनुसार इस वर्ष के अंत तक सौदे को पूरा किया जाएगा जो विभिन्न नियामकों की मंजूरी पर निर्भर करेगा। एस्सार ऑयल की वाडिनार स्थित रिफाइनरी देश में रिफानइरी उत्पादन में नौ फीसदी हिस्सेदारी रखती है और पूरे देश में कंपनी के 2,700 रिटेल आउटलेट भी हैं।

इस बीच विश्लेषकों ने कहा कि देश विदेश में कोयला और बिजली के साथ ही दूसरे क्षेत्र में तेजी से अधिग्रहण कर रहा एस्सार समूह अभी भारी ऋण में दबा है और बैंक कर्ज चुकाने के लिए लगातार दबाव बना रहे हैं। इस सौदे से समूह को करीब 80 हजार करोड़ रुपए के ऋण को चुकाने में मदद मिलेगी और वह दूसरे कारोबार पर ध्यान केन्द्रित कर सकेगी।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned