पिछले IPL में मुंबई इंडियंस के कोचिंग टीम के हिस्सा थे मलिंगा, इस बार मैदान में उतरते ही दिलाई जीत

  • आईपीएल के इतिहास में 150 विकेट लेने वाले इकलौते गेंदबाज
  • सात से कम का इकोनॉमी रेट है इनका आईपीएल में
  • डेथ ओवरों के सबसे खतरनाक गेंदबाज माने जाते हैं

By: Mazkoor

Published: 29 Mar 2019, 06:32 PM IST

बेंगलूरु : आईपीएल (IPL) इतिहास के सबसे सफल गेंदबाज श्रीलंका के लसिथ मलिंगा को जब आईपीएल-11 में मुंबई इंडियंस ने अपनी कोचिंग टीम से जोड़ा तो क्रिकेट के दिग्गजों ने मान लिया कि अब उनका आईपीएल करियर खत्म हो चुका है। किसी ने नहीं सोचा था कि अगले ही साल यह गेंदबाज एक बार फिर बतौर खिलाड़ी आईपीएल के मैदान में वापसी करेगा और अपने पहले ही मैच में मैच विजेता बनकर उभरेगा।

मुंबई इंडियंस को दिलाई जीत
पिछले साल मुंबई इंडियंस ने लसित मलिंगा पर नीलामी के दौरान बोली नहीं लगाई। लेकिन उनके अनुभव को देखते हुए अपनी कोचिंग टीम से जरूर जोड़ा। इसका नतीजा यह हुआ कि पिछली बार मुंबई की टीम प्लेऑफ में भी नहीं पहुंच पाई। इसके बाद मुंबई ने अपनी गलती सुधारते हुए इस बार फिर मलिंगा को अपनी टीम में मौका दिया। और आते ही उन्होंने अपने पहले ही मैच में टीम का जीत दिला दी।

इस मैच में उनके खेलने पर मंडरा रहा था खतरा
मुंबई इंडियंस ने मलिंगा को अपनी टीम से जोड़ तो लिया, लेकिन फिर भी उनके आईपीएल के शुरुआती छह मैच खेलने पर खतरा मंडरा रहा था। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने देश के सभी खिलाड़ियों को कह रखा था कि अगर उन्हें विश्व कप में खेलना है तो अप्रैल की शुरुआत में होने वाले घरेलू एकदिवसीय मैच में खेलना होगा। इसके बाद मलिंगा ने आईपीएल के शुरुआती छह मैच से नाम वापस ले लिया था। इसके बाद बीसीसीआई ने श्रीलंकाई बोर्ड से बात कर वह आईपीएल के शुरुआती मैचों में उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करवाई। अब वह सिर्फ अप्रैल के पहले सप्ताह में मुंबई इंडियंस के लिए मौजूद नहीं रहेंगे।

बॉलिंग फीगर अहमियत की नहीं करते तस्दीक
मुंबई इंडियंस की तरफ से वह रॉयल चैलेंजर बेंगलूरु के खिलाफ उतरे और अपने कुल चार ओवर में बिना कोई विकेट लिए उन्होंने 47 रन दे दिए। इस बॉलिंग फीगर को देखकर नहीं लगता कि उन्होंने एक विजेता की तरह बॉलिंग की। लेकिन जब क्रीज पर डिविलियर्स मौजूद हों और अंतिम ओवर में उनके खिलाफ गेंदबाजी करनी हो तो यह कितना मुश्किल होता है, यह हर क्रिकेट प्रेमी जानता है।

ऐसा रहा मैच का आखिरी ओवर
इस मैच में डिविलियर्स धुआंधार बल्लेबाजी कर रहे थे और वह क्रीज पर मौजूद थे। बेंगलोर को जीत के लिए बनाने थे 17 रन और गेंद मलिंगा के हाथ में थी। सामने थे शिवम दूबे। मलिंगा की पहली गेंद को दूबे ने सिक्स के लिए उड़ा दिया। अब पांच गेंद पर जीत के लिए चाहिए थे 11 रन। दूसरी गेंद पर दूबे का कैच छूटा और इस पर उन्होंने एक रन ले लिया। मलिंगा ने तीसरी गेंद डीविलियर्स को यॉर्कर मार दी। इस पर किसी तरह एक रन बना। चौथी गेंद पर दुबे सिर्फ एक रन ले सके। पांचवीं गेंद पर डीविलियर्स ने भी एक रन लिया और आखिरी बॉल पर भी बड़ा शॉट मारने के प्रयास में दूबे चूके। इस तरह से मलिंगा ने अपनी शानदार गेंदबाजी का नमूना पेश कर मुंबई के पाले में छह रन से जीत डाल दी।

आईपीएल में मलिंगा का रिकॉर्ड है शानदार
आईपीएल के इतिहास में मलिंगा सबसे सफल गेंदबाज हैं। वह ऐसे इकलौते गेंदबाज हैं, जिन्होंने 150 विकेट लिए हैं। अभी तक 111 मैच में उनके नाम 154 विकेट है। वह चार बार चार विकेट और एक बार पांच विकेट ले चुके हैं। वह आईपीएल के इतिहास में उन गिने चुने गेंदबाजों में से एक हैं, जिन्होंने कम से कम 100 मैच खेले हैं और उनका इकोनॉमी रेट 7 से कम है। उनके अलावा ऐसे सिर्फ दो गेंदबाज सुनील नारायण और रविचंद्रन अश्विन, जिनका इकोनॉमी रेट 7 से कम है, लेकिन इनके विकेट मलिंगा के मुकाबले काफी कम है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned