आदिवासी महिला पर मौत बनकर टूट पड़ा रीछ

आदिवासी महिला पर मौत बनकर टूट पड़ा रीछ

Rahul Saran | Publish: Sep, 06 2018 09:10:41 PM (IST) Itarsi, Madhya Pradesh, India

-- गुरूवार की घटना

- महिला ने रीछ से जमकर किया संघर्ष

इटारसी। ग्राम माना निवासी एक महिला पर गुरूवार सुबह 7 बजे रीछ ने हमला कर दिया। रीछ के हमले में महिला बुरी तरह घायल हो गई। महिला को सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया है।
ग्राम माना निवासी महिला सेवती बाई भल्लावी गुरूवार सुबह 7 बजे शौच के लिए निकली थी। उसे नहीं पता था कि वह रोजाना जिस जगह जाती है आज वहां पर उसके साथ हादसा होने वाला है। सुबह के वक्त जब वह जंगलों से गुजर रही थी तो उसी दौरान उस पर एक रीछ ने हमला कर दिया। रीछ उसकी जान लेने पर आमादा था मगर महिला ने रीछ से जमकर संघर्ष किया। महिला ने रीछ को लकड़ी और पत्थरों से भी मारा। रीछ महिला के वारों से घबराकर जंगल में भाग गया मगर रीछ ने महिला की जांघ में नाखून और दांत गड़ा दिए थे। महिला ने रीछ से संघर्ष कर खुद को बचाने के बाद खून से लथपथ हालत में घर पहुंची तो उसके परिजन भी सकते में आ गए। तत्काल ही परिजन उसे लेकर सरकारी अस्पताल पहुंचे जहां महिला को प्राथमिक उपचार दिया गया। सूचना मिलने के बाद वन विभाग ने घायल महिला को तत्काल ही एक हजार रुपए की सहायता उपलब्ध कराई।
पहले भी हो चुके हैं हमले
ग्रामीणों पर जंगली जानवरों के हमले की यह कोई पहली घटना नहीं है। इटारसी वन परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गांवों में अक्सर जंगली जानवरों के ग्रामीणों पर हमले हो चुके हैं। अधिकतर हमले उस वक्त होते हैं जब वे या तो मवेशी चराने जंगल में जाते हैं या फिर शौच के लिए। पिछले एक साल में आधा दर्जन से अधिक मामले रीछ के हमले के आ चुके हैं।
सहायता राशि का है प्रावधान
वन विभाग ने जंगली जानवरों के हमले में घायल होने वाले ग्रामीणों के लिए राशि का प्रावधान कर रखा है। हमले में घायल होने पर वन विभाग 1 हजार रुपए की राशि तात्कालिक रूप से उपलब्ध कराता है। हमले में मौत होने पर भी कुछ राशि देने का प्रावधान है।

Ad Block is Banned