scriptयोग से शरीर, मन और बुद्धि को रखा जा सकता है स्वस्थ | Body, mind and intellect can be kept healthy through yoga. | Patrika News
इटारसी

योग से शरीर, मन और बुद्धि को रखा जा सकता है स्वस्थ

योग से शरीर, मन और बुद्धि को रखा जा सकता है स्वस्थ

इटारसीJun 21, 2024 / 08:53 pm

Manoj Kundoo

Body, mind and intellect can be kept healthy through yoga.

योग से शरीर, मन और बुद्धि को रखा जा सकता है स्वस्थ

शरीर के साथ ही मन और बुद्धि को स्वस्थ रखने आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जिले में सुबह से योगाभ्यास किया।


इटारसी. शरीर के साथ ही मन और बुद्धि को स्वस्थ रखने आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जिले में सुबह से योगाभ्यास किया। योग दिवस के कार्यक्रमों में जनप्रतिनिधि, अधिकारी और गणमान्य नागरिक भी शामिल हुए। इटारसी में मुख्य कार्यक्रम अटल पार्क के पास कवि भवानी प्रसाद मिश्र ऑडिटोरियम में किया।पहले इटारसी के अटल पार्क में करीब पांच सौ लोगों योग दिवस में शामिल होने की उम्मीद थी, लेकिन सुबह ही बारिश की वजह से अटल पार्क का कार्यक्रम ऑडिटोरियम में शिफ्ट करना पड़ा। इटारसी के ऑडिटोरियम में हुए कार्यक्रम में विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा, नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पंकज चौरे, नगरपालिका उपाध्यक्ष निर्मल सिंह राजपूत, भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिलाध्यक्ष जयकिशोर चौधरी, वरिष्ठ नागरिक मंच के राजकुमार दुबे सहित नगर पालिका के अधिकारी-कर्मचारी और गणमान्य नागरिकों ने शामिल होकर योगाभ्यास में भाग लिया।
इस अवसर पर विधायक डॉ. शर्मा ने कहा कि योग से शरीर, मन और बुद्धि को स्वस्थ रखा जा सकता है: अत: नागरिकों को संकल्प लेना चाहिए कि वे नियमित जीवन में योग को शामिल करेंगे। योगाभ्यास के बाद योग सप्ताह में सात दिन योगाभ्यास कराने वाले राजेश गुप्ता और उनके साथी संदीप चंद्रवंशी का नगर पालिका की ओर से सम्मान किया गया।

पीएम श्री कन्या शाला

पीएम श्री शासकीय कन्या शाला सूरजगंज में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। जिसमें खेल शिक्षक विनोद दुबे ने छात्रों को बताया कि योग से दिमाग और शरीर दोनों स्वस्थ रहते हैं। योग प्रतिदिन करना चाहिए। शिविर में प्राचार्य सतीश खलको, मिडिल स्कूल प्रधान पाठक महेश कुमार रायकवार, खेल शिक्षक विनोद दुबे एवं समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।

प्रज्ञान में हुआ योग सत्र का आयोजन

इटारसी. प्रज्ञान सीनियर सेकेंडरी स्कूल में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर “योग सत्र”का आयोजन किया गया। जिसमें सभी छात्रों व शिक्षकों ने विशेष सामूहिक योग किया। प्रज्ञान प्रांगण में योग शिक्षकों द्वारा सूर्य नमस्कार,अनुलोम- विलोम, वज्रासन पश्चिमोत्तासन, पद्मासन आदि योग का अभ्यास छात्रों को करवाया। योग दिवस पर प्रज्ञान की फाउंडर मेंबर इंदिरा तिवारी ने अपने उद्बोधन में योग पर प्रकाश डाला। उन्होंने छात्रों को बताया कि योग एक प्राचीन शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास है जिसकी उत्पत्ति भारत में ही हुई थी। योग शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ होता है “जोडऩा”। प्राचार्य रितु तिवारी ने बताया कि आज के समय में योग विभिन्न रूपों में प्रचलित है और इसकी लोकप्रियता निरंतर बढ़ रही है।

एमजीएम कॉलेज

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर शासकीय महात्मा गांधी स्मृति महाविद्यालय इटारसी में आयोजित योगाभ्यास’ कार्यक्रम में सम्मिलित होकर योग किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से जन भागीदारी समिति के अध्यक्ष डॉ नीरज जैन, कॉलेज प्राचार्य डॉक्टर राकेश मेहता, डॉक्टर अरविंद शर्मा, डॉक्टर अर्चना शर्मा, संजीव कैथवास, डॉ मनीष चौरे एवं अन्य प्रोफेसर सहित छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

एमजीएम स्कूल में हुआ योग

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर एमजीएम इंग्लिश मीडियम हायर सेकेंडरी स्कूल इटारसी में योग अभ्यास का आयोजन किया गया। जिसमें शाला के वरिष्ठ व्यायाम शिक्षक शिब्बू द्वारा सभी विद्यार्थियों को योग अभ्यास के आसन कराए गए। जिसमें मुख्य रूप से सूर्य नमस्कार, प्राणयाम अनुलोम विलोम, भ्रामरी, ताड़ासन आदि की प्रक्रिया समझाई गई। प्रभारी प्राचार्य अनुराग दीवान सहित वरिष्ठ शिक्षिका सीमा श्रीवास्तव, मनीषा गुजरे, सुमन यादव, रबिता सिंह, मुकेश सिंह, विद्यार्थियो और समस्त शिक्षकों ने भाग लिया।

गल्र्स कॉलेज

महाविद्यालय में क्रीड़ा विभाग एवं एनसीसी द्वारा योग दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर छात्राओं द्वारा पोस्टर निर्माण एवं निबंध प्रतियोगिता आयोजित की गई। पतंजलि योगपीठ से प्रशिक्षित योगगुरु डॉ. दीपक चौधरी द्वारा विभिन्न योगासन एवं प्राणायाम विधियों का अभ्यास कराया गया। साथ ही उपस्थित समूह ने विभिन्न आसन एवं प्राणायाम का अभ्यास किया। इस अवसर पर प्राचार्य डॉ. आरएस मेहरा ने बताया कि शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक शांति और आध्यात्मिक विकास प्राप्त करने के लिए योग की शक्ति को अपनाएं। डॉ. संजय आर्य ने कहा कि योग शास्त्रों के अनुसार योग का अभ्यास व्यक्तिगत चेतना को सार्वभौमिक चेतना के साथ जोड़ता है, जो मन और शरीर, मनुष्य और प्रकृति के बीच पूर्ण सामंजस्य का संकेत देता है।

Hindi News/ Itarsi / योग से शरीर, मन और बुद्धि को रखा जा सकता है स्वस्थ

ट्रेंडिंग वीडियो