बिना डॉक्टर यहां खेल रहे हैं नेशनल लेवल के 1400 खिलाड़ी..हैरान कर देने वाली है यह खबर

आयोजन कर रहे हैं हद दर्जे की लापरवाही

 



जबलपुर. शहर के रानीताल खेल परिसर में खेली जा रही 65वीं राष्ट्रीय शालेय कराते प्रतियोगिता में में देशभर के विभिन्न राज्यों से 1400 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इन खिलाडिय़ों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए चिकित्सा समिति बनाई गई है। समिति में एक भी डॉक्टर नहीं है। खिलाडिय़ों के स्वास्थ्य का जिम्मा महज आठ नर्सों पर है।
यह है स्थिति
- 01 से 06 दिसम्बर तक रानीताल खेल परिसर में खेली जा रही है प्रतियोगिता
- 1395 खिलाड़ी (विभिन्न राज्यों के) ले रहे हैं हिस्सा
- 56 पदाधिकारी भी शामिल
निजी डेंटल कॉलेज की नर्स
जानकारों की मानें तो चिकित्सा समिति की ओर से न तो सरकारी डॉक्टर्स न ही सरकारी नर्स की तैनाती के लिए कोई प्रयास किए गए। यही कारण है कि आनन फानन में निजी डेंटल कॉलेज की नर्सों को तैनात किया गया है।
इलाज में देरी पर खिलाडिय़ों ने किया हंगामा
मंगलवार को प्रतियोगिता के दौरान गोवा की एक महिला खिलाड़ी के जख्मी होने पर विक्टोरिया अस्पताल ले जाया गया। वहां इलाज में देरी पर साथी खिलाडिय़ों ने हंगामा किया। इसके बाद उसे निजी अस्पताल ले जाया गया।
फिर भी नहीं सुधरी व्यवस्था
मंगलवार को बड़ी लापरवाही उजागर होने के बावजूद बुधवार को भी व्यवस्थाओं में सुधार नहीं किया गया। हैरत की बात यह है कि चिकित्सा समिति की ओर से नर्सों की तैनाती केवल प्रतियोगिता के दौरान ही की जाती है। रात में किसी खिलाड़ी का स्वास्थ्य खराब हो जाए या उसे डॉक्टर की जरूरत पड़े, तो वह जहां रुका है, वहां के प्राचार्य के भरोसे उसे छोड़ दिया गया है।
वर्जन
चिकित्सा समिति में सरकारी डॉक्टर्स नहीं हैं। निजी डेंंटल कॉलेज की 16 नर्सों को लगाया गया है, जिनकी तीन शिफ्ट में तैनाती की जाती है। प्रतियोगिता के दौरान भी इन्हीं की तैनाती की जाती है।
अमरीश पांडे, चिकित्सा प्रभारी

virendra rajak
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned