Chaitra Navratri 2019: सेंट्रल जेल में गूंजे माता के जयकारे, 714 कैदियों ने रखा व्रत

उपवास के कई हैं फायदे, आत्म शुद्धि के साथ ऋतु परिवर्तन से होने वाले संक्रामक रोगों से भी बचते हैं। नौ दिन तक व्रत रखने से खानपान भी संतुलित होता है। व्रत से शरीर स्वस्थ्य बना रहता है। कब्ज, गैस, अपच आदि की समस्या से निजात मिल जाती है...

By: santosh singh

Published: 06 Apr 2019, 11:02 PM IST

जबलपुर. चैत्र नवरात्र प्रतिपदा शनिवार को देवी मंदिरों के साथ सेंट्रल जेल भी माता के जयकारों से गूंज उठा। जेल में बंद 714 कैदियों ने नवरात्र पर व्रत रखा है। यहां सुबह भक्तिमय माहौल में माता का पूजन हुआ। शाम को ढोल की थाप पर भजन-कीर्तन हुआ। जेल प्रशासन की ओर से सभी बंदियों को फलाहार कराया गया।
नेताजी सुभाष चंद्र बोस सेंट्रल जेल में 2450 बंदी और कैदी हैं। इनमें से 671 पुरुष और 43 महिला बंदियों ने नवरात्र पर उपवास रखा है। कई बंदियों ने नौ दिन का व्रत रखा है। इसमें महिलाएं भी शामिल हैं। जेल अधीक्षक गोपाल ताम्रकार ने बताया व्रत रखने वाले बंदियों के लिए साबूदाना की खिचड़ी, मूंगफली, केला सहित अन्य फलाहार की व्यवस्था कराई गई थी।

Chaitra Navratri 2019: वर्षों बाद बन रहे ये अद्भुत योग, देवी को प्रसन्न करने पर मिलेगा वरदान
IMAGE CREDIT: patrika

नवरात्र में इस कारण रखते हैं उपवास-
नवरात्र में उपवास रखने की परम्परा आदिकाल से चली आ रही है। कुछ लोग पहले दिन और अष्टमी को उपवास रखते हैं, वहीं कुछ नौ दिन मां शारदा की आराधना करते हें। नवरात्र में उपवास रखने का विशेष महत्व है। देवी पूजा के साथ व्रत करके माता से मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि नवरात्र में रखे जाने वाले व्रत हमारी आत्मा की शुद्धता के लिए होते हैं। साल में दो बार हम इन व्रत के दौरान अपनी आत्मा की शुद्धि करते हें। व्रत से मन, तन और आत्मा को शुद्धि मिलती है।
मां के चरित्र के नौ गुणों को व्यक्तित्व में शामिल करें-
नवरात्र के नौ पावन दिन स्वयं को शुद्ध, पवित्र, साहसी, मानवीय, आध्यात्मिक और मजबूत बनाने की अवधि होती है। त्योहार के दौरान देवी से आशीर्वाद के साथ उनके चरित्र के गुणों को अपने व्यक्तित्व में शामिल करना चाहिए। दरअसल नवरात्र ऋतु परिवर्तन के समय पड़ते हैं। ऐसे समय में बीमार होने की सम्भावना अधिक होती है। कई तरह के संक्रामक रोग होने का खतरा रहता है। नौ दिन तक व्रत रखने से खानपान भी संतुलित होता है। व्रत से शरीर स्वस्थ्य बना रहता है। कब्ज, गैस, अपच आदि की समस्या से निजात मिल जाती है।

Show More
santosh singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned