जल्दी करें आज है सोना खरीदी का विशेष दिन, चमक उठेगा भाग्य 

जल्दी करें आज है सोना खरीदी का विशेष दिन, चमक उठेगा भाग्य 
gold silver price

इस दिन स्नान, दान, जप, होम आदि अपने सामथ्र्य के अनुसार जितना भी किया जाए, अक्षय रूप में प्राप्त होता है।

जबलपुर। 09 मई अक्षय तृतीया पर्व वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन मनाया जाता है। इस दिन स्नान, दान, जप, होम आदि अपने सामथ्र्य के अनुसार जितना भी किया जाए, अक्षय रूप में प्राप्त होता है। अक्षय तृतीया कई मायनों में बहुत ही महत्वपूर्ण समय होता है। इस दिन के साथ बहुत सारी कथाएं और किंवदंतियां जुड़ी हुई हैं। 

ग्रीष्म ऋतु का आगमन, खेतों में फसलों का पकना और उस खुशी को मनाते खेतिहर व ग्रामीण लोग यानी विभिन्न व्रत, पर्वों के साथ इस तिथि का पदार्पण होता है। माना जाता है कि जिनके अटके हुए काम नहीं बन पाते हैं, या व्यापार में लगातार घाटा हो रहा हो, अथवा किसी कार्य के लिए कोई शुभ मुहूर्त नहीं मिल पा रहा हो तो उनके लिए कोई भी नई शुरुआत करने के लिए अक्षय तृतीया का दिन बेहद शुभ होता है। अक्षय तृतीया पर सोना खरीदना बहुत शुभ माना गया है। इस दिन स्वर्ण आभूषणों की खरीद-फरोख्त को भाग्य की शुभता से जोड़ा जाता है।


अक्षय तृतीया में दान पुण्य का महत्व
अक्षय तृतीया पर गंगा, यमुना, शिप्रा जैसी पवित्र नदियों और तीर्थों में स्नान करने का विशेष फल प्राप्त होता है। यज्ञ, होम, देव-पितृ तर्पण, जप, दान आदि कर्म करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। अक्षय तृतीया के दिन गर्मी की ऋतु में खाने-पीने, पहनने आदि के काम आने वाली और गर्मी को शांत करने वाली सभी वस्तुओं का दान करना शुभ होता है। इसके अतिरिक्त इस दिन जौ, गेहूं, चना, दही, चावल, खिचड़ी, ईख (गन्ना) का रस, ठंडाई व दूध से बने हुए पदार्थ, सोना, क पड़े, जल का घड़ा आदि दें। इस दिन पार्वतीजी का पूजन भी करना शुभ रहता है।
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned