सेटेलाइट सिटी के लिए जमीन देने से कृषि विवि ने किया इनकार, ये है वजह

नगर निगम ने रखा था 200 एकड़ भूमि के हस्तांतरण का प्रस्ताव

By: reetesh pyasi

Published: 07 Jul 2019, 07:52 PM IST

जबलपुर। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय प्रशासन ने सेटेलाइट सिटी के निर्माण के लिए 200 एकड़ जमीन देने के नगर निगम के प्रस्ताव को को ठुकरा दिया। यह निर्णय विवि के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट की बैठक में किया गया। बोर्ड के सदस्यों ने एकमत होकर कहा कि विश्वविद्यालय की उपजाऊ भूमि सेटेलाइट टाउनशिप के लिए नहीं दी जा सकती। सेटेलाइट सिटी के लिए जिस जमीन का चयन किया गया है, वहां पर विभिन्न प्रकार के बीज तैयार किए जाते हैं, जिन्हें देशभर में सप्लाई किया जाता है। विश्व विद्यालय प्रशासन ने इस निर्णय की जानकारी नगर निगम जबलपुर को भी दी है।

प्रभावित होगा बीज उत्पादन
प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से बातचीत में विवि के कुलपति डॉ. प्रदीप बिसेन ने हरसम्भव मदद का आश्वासन दिया था। विवि की शनिवार को हुई बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट की मीटिंग में पदाधिकारियों ने जमीन देने का विरोध करते हुए भूमि हस्तांतरण का प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया। उनका कहना था कि नगर निगम प्रशासन ने सेटेलाइट सिटी के लिए जो भूमि चिह्नित की है, उससे विवि का 20 प्रतिशत बीज उत्पादन प्रभावित होता।

मुख्यमंत्री ने की थी सैटेलाइट सिटी बसाने की बात
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फरवरी में शहर में सेटेलाइट सिटी के निर्माण की बात कही थी। कांग्रेस जनप्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन के साथ जमीन की तलाश शुरू की। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय प्रशासन से बातचीत कर 200 एकड़ जमीन की मांग की गई।

read also : CBSE बोर्ड परीक्षा के परिणाम को बेहतर करने के लिए अब लगेंगी एक्स्ट्रा क्लास

सीएम और राज्यपाल से करेंगे मुलाकात
बोर्ड के सदस्य राज्यपाल, मुख्यमंत्री कमलनाथ और वित्तमंत्री से मुलाकात कर चर्चा करेंगे। उन्हें बताया जाएगा कि कृषि विवि की जमीन पर सीड तैयार किए जाते हैं। इस मामले में जनेकृविवि देशभर में पहले स्थान पर है। नगर निगम प्रशासन ने जो जमीन चिह्नित की है, वहां अधिक मात्रा में सीड तैयार होता है।

reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned