इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडलिस्ट अंहिसा ने यूपीएससी में हासिल की 53 वीं रैंक

इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडल हासिल करने वाली शहर की बेटी अंहिसा ने यूपीएससी में 53 वीं रैंक हासिल की है।

By: Subodh Tripathi

Published: 25 Sep 2021, 08:06 PM IST

जबलपुर. इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडल हासिल करने वाली शहर की बेटी अंहिसा जैन ने अब यूपीएससी में 53 वीं रैंक हासिल की है। उनकी इस उपलब्धि से परिजनों तक शहरवासियों को काफी गर्व है। उन्होंने इस उपलब्धि का श्रेय अपनी माता को दिया है, उनका कहना है कि मां चाहती थी मैं यूपीएससी में सफलता हासिल करूं, इसलिए मैंने विशेष रूप से ध्यान दिया।

पहले आई थी 164 वीं रैंक, अब आई 53 वीं रैंक

अंहिसा ने पिछले साल भी यूपीएससी की एग्जाम दी थी, जिसमें उन्होंने 164 वीं रैंक हासिल की थी, लेकिन उनका जज्बा कम नहीं हुआ, उन्होंने और अधिक तैयारी करते हुए फिर एग्जाम दी तो इस बार 53 वीं रैंक हासिल हुई है। वे फिलहाल सहायक आयकर आयुक्त के तहत नागपुर में प्रशिक्षण ले रही है। अंहिसा ने इंजीनियरिंग कॉलेज जबलपुर से इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडल हासिल किया था। साल 2015 से वे यूपीएससी की तैयारी कर रही थी।

गार्ड की बेटी बनेगी अफसर

वनमंडल में गार्ड के रूप तैनात एक व्यक्ति की बेटी ने जब यूपीएससी में 622 वीं रैंक हासिल की तो पिता का सीना गर्व से चौड़ा हो गया। शहर की इस बेटी ने न सिर्फ पिता का नाम रोशन किया है, बल्कि खंडवा शहरवासियों के लिए भी यह गर्व की बात है।
जानकारी के अनुसार यूपीएससी 2020 के परिणाम शुक्रवार को घोषित हुए हैं। जिसमें खंडवा निवासी निमिषी त्रिपाठी ने 622 वीं रैंक हासिल की है, उनके पिता पुनासा रेंज में फॉरेस्ट गार्ड हैं, उनकी इस उपलब्धि पर मध्यप्रदेश फॉरेस्ट विभाग ने भी बधाई दी है।

इलेक्ट्रिशियन की बेटी उर्वशी ने हासिल की 532 वीं रैंक

यूपीएससी सिविल सर्विसेज 2020 का फायनल परिणाम शुक्रवार को घोषित हुआ है, जिसमें ग्वालियर के चार शहर का नाका हजीरा निवासी उर्वशी सेंगर ने 532 वीं रैंक हासिल की है। जबकि उर्वशी ने सरकारी कॉलेज से ही ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की है। उनके पिताजी इलेक्ट्रिशियन है, इस प्रकार सीमित संसाधनों के बावजूद भी उर्वशी ने पढ़ाई में कोई कसर नहीं छोड़ी और आज अपना व परिवार का नाम रोशन कर दिया। उनके पिता रविंद्र सेंगर ने अपनी बेटी द्वारा हासिल की गई इस उपलब्धि पर गर्व महसूस किया और उन्होंने कहा कि मुझे पूरी उम्मीद थी कि वह निश्चित ही एक दिन कुछ ऐसा कर दिखाएगी।

Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned