अमृतं जलम : श्रमदान से संवर गया यह तालाब, बदल गई तस्वीर, देखें वीडियो

अमृतं जलम : श्रमदान से संवर गया यह तालाब, बदल गई तस्वीर, देखें वीडियो

deepak deewan | Publish: May, 18 2018 11:38:35 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

लोगों ने पत्रिका के अमृतं जलम अभियान में जल को निर्मल बनाने व घाटों को स्वच्छ करने का संकल्प लिया

जबलपुर। शहर के खासो-आम आगे आए और साथी हाथ बढ़ाना की तर्ज पर कंधे से कंधा मिलाकर काम शुरु कर दिया। सभी के सहयोग से गढ़ा के ऐतिहासिक इमरती तालाब की सूरत ही बदल गई है। यह तालाब अब संवर रहा है। इस ऐतिहासिक तालाब के जल को निर्मल बनाने व घाटों को स्वच्छ करने का संकल्प लोगों ने पत्रिका के अमृतं जलम अभियान में लिया और इसे पूरी तरह कारगर भी किया जा रहा है।

अभियान के छटवें दिन शुक्रवार को भी बड़ी संख्या में लोग सुबह से ही यहां आ जुटे और श्रमदानियों ने श्रमदान कर तालाब को संवारने का काम शुरु कर दिया। गौरतलब है कि गुरुवार को यहां से चार ट्राली कचरा निकाला गया था जिससे घाट की तस्वीर पूरी तरह बदल गई।

इमरती ताल का ऐतिहासिक महत्व
रानी दुर्गावती के शासन काल में निर्मित इमरती ताल का ऐतिहासिक महत्व रहा है। पहले यहां के लोग तालाब के पानी का उपयोग पीने के लिए करते थे। पत्रिका के इस अभियान से लोगों ने तालाब के पानी को निर्मल बनाने का संकल्प लिया।

तालाब में साफ-सफाई कर स्वछता का संकल्प लिया
अमृतं जलम अभियान में शुक्रवार नमामि देवी नर्मदे सेवा प्रकल्प एवं नर्मदा समग्र की टीम ने इमरती तालाब में साफ-सफाई कर स्वछता का संकल्प लिया । प्रकल्प के डॉ जितेंद्र जामदार ने कहा कि पत्रिका के अभियान से पर्यावरण एवं जल संरक्षण की नई क्रांति शुरू हुई है । पर्यावरण के पुरोधा रहे अनिल माधव दवे की पुण्य स्मृति के मौके पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण का संरक्षण ही उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलि है।

इस मौके पर नर्मदा समग्र के विनोद शर्मा, रूपकिशोर , विनोद दुबे, सुधीर साहू, सदन त्रिवेदी , विनीता पैगवार, संजय दुलहनी , शिव नारायण पटेल, नारायण सिंह राजपूत एवं गोलू पहलवान मौजूद थे। अभियान में नमामि देवी नर्मदे के जयघोष के साथ सैकड़ों श्रद्धालुओं ने संकल्प लिया कि तालाब को पूरी तरह स्वच्छ बनाएंगे।

Ad Block is Banned